यूक्रेन से लौटे छात्रों ने बताई आपबीती, कहा 30 किलोमीटर पैदल चल रोमानिया बार्डर पहुंचे, 25 घंटे रहे खड़े

सिरसा,जागरणसंवाददाता। यूक्रेनवरूसकेबीचचलरहेयुद्धकेबीचयूक्रेनमेंफंसेछात्रस्वदेशलौटनेलगेहैं।बुधवारसुबहतीनछात्रदिल्लीएयरपोर्टपरपहुंचेऔरस्वजनोंसेमिले।हांडीखेड़ानिवासीमोहितसिहागकोउसकेपिताआत्मारामलेनेपहुंचेतोऐलनाबादकीसंदीपकौरकोउसकेपितासुरजीतसिंहवमांरणजीतकौरलेनेपहुंची।सिरसाकीफ्रेंडसकालोनीनिवासीभारतबरनवालसुबहछहबजेहीघरपहुंचगया।डोरबेलबजाईतोपितासुरेशबरनवालनेदरवाजाखोलाऔरअपनेबेटेकोघरमेंदेखकरउनकीखुशीकाठिकानानहींरहा।

मोहितबोलाकीवमेंहालातबेहदखराब,खुदकेरिस्कपरनिकले

हांडीखेड़ानिवासीमोहितसिहागनेबतायाकिवहकीवयूनिवर्सिटीमेंपढ़ताहै।युद्धकेबादवहांहालातबेहदखराबहोगए।वहांसेनिकलनाबहुतमुश्किलथा।सरकारनेभारतीयोंकोकीवछोड़नेकेलिएकहदियाथापरंतुकोईप्रबंधनहींकिए।छात्रअपनेरिस्कपरनिकलेहैं।उसकेसाथउसकेतीनदोस्तऔरथे,जिनमेंएकआंध्रप्रदेश,एकयूपीऔरएकगोआसेथा।चारोंदोस्तलवीवसेहोतेहुएहंगरीबार्डरपहुंचेवहांसेइंडियनएंबेसीनेउनकेलिएहवाईजहाजकाप्रबंधकियागया।अपनेदेशमेंआकरउसेराहतमिलीहै।वहींबेटेकेसकुशलघरलौटनेपरआत्मारामनेकहाकिजबतकबेटानहींलौटाथा,डरलगरहाथापरंतुअबखुशीमिलीहै।भगवानकालाखलाखधन्यवादहै।

संदीपकौरबोली30किलोमीटरपैदलचलकरपहुंचेपौलेंडबार्डर

ऐलनाबादकेवार्ड12निवासीसंदीपकौरनेबतायाकिवेलवीवसेहालैंडबार्डरहोकरभारतपहुंचेहैं।उसनेबतायाकिउसकेसाथकेरलकीआयशाहन्नान,गुरग्रामकामनदीपयादववदिल्लीकाआयुषराजदीपथा।लवीवसेपौलेंडसेवेबसमेंआए।इसकेबादकरीब30किलोमीटरपैदलचले।कड़ाकेकीठंडमेंसामानकेसाथउन्होंनेपैदलसफरतयकिया।पौलेंडबार्डरपारकरनेमेंकाफीपरेशानियांआई।हालांकिलड़कियोंकोयूक्रेनसेनानेबार्डरपारकरवादियालेकिनलड़कोंकेसाथदुव्र्यवहारकियाजारहाथा।पौलेंडबार्डरकेबादइंडियनएंबेसीनेउनकेआनेकाप्रबंधकियाहुआथा।वहींबेटीकोसुरक्षितपहुंचादेखकरउसकेपितासुरजीतसिंहवमांरणजीतकौरकीआंखेंखुशीसेझलकआई।सुरजीतसिंहनेकहाकिवाहेगुरुकालखलखशुक्रहैउनकीबेटीसहीसलामतघरआगई।उन्हेंबहुतचिंताहोरहीथी।

भारतबरनवालबोलारोमानियाबार्डरपारकरनेकेलिएकरनापड़ा25घंटेइंतजार

फ्रेंडसकालोनीमेंबैंकअधिकारीसुरेशबरनवालकाबेटेभारतनेबुधवारप्रात:छहबजेघरआकरअपनेमम्मीपापाकोसरप्राइजदिया।उसनेबतायाकिवहविनितिशियायूनिवर्सिटीमेंएमबीबीएसथर्डइयरकररहाहै।उनकेक्राककेइग्जामहोनेहै,जिसकारणअनेकछात्रवहांरूकेहुएथे।हालांकिउनकीयूनिवर्सिटीदूरथीपरंतुरहरहकरहूटरबजतेरहतेथेऔरउन्हेंबंकरमेंरहनापड़ताथा।उसनेबतायाकियूक्रेनसेनिकलनेमेंकिसीभीसरकारनेउनकीमददनहींकी।छात्रखुदकेखतरेपरएकबसकरकेनिकलपड़े।रोमानियाबार्डरपरयूक्रेनीसैनिकभारतीयोंसेअभद्रव्यवहारकररहेथे।

एकदोस्तकीतोटांगहीसुन्नहोगई

यूक्रेनीनागरिकोंकेरोमानियाजानेकेलिएअलगगेटथातथावेआसानीसेजारहेथेजबकिइंडियनकोएकएकदोदोकरकेनिकालाजारहाथा।भारतनेबतायाकिउन्हेंबार्डरक्रासकरनेमेंही25घंटेलगगए।वहांकड़ाकेकीठंडथीऔरबर्फवारीहोरहीथी।उसकेएकदोस्तकीतोटांगहीसुन्नहोगई,जिसकेबादउसेफस्र्टएडदीगई।उसनेबतायाकिजिंदगीमेंएकनयाअनुभवसीखनेकोमिला।वहफिरसेयूक्रेननहींलौटनाचाहता।अगरउनकामाइग्रेशनहोजाताहैतोवोदूसरेदेशमेंजानाज्यादापसंदकरेंगे।