योग और यज्ञ ने बढ़ाए मनोबल, मिलेगी कोरोना पर विजय

जेएनएन,मुजफ्फरनगर:कोरोनाकालमेंयोगसाधनातनऔरमनकोमजबूतबनानेमेंबड़ारोलअदाकररहीहै।लाकडाउनकेचलतेसभीयोगकेंद्रबंदहैं।ऐसेमेंयोगाचार्यसुरेन्द्रपालसिंहआर्यनेलोगोंकोशारीरिक,मानसिकवबौद्धिकरूपसेमजबूतबनानेवउनकाआत्मबलबढ़ानेकेलिएआनलाइनयोगकक्षासेस्वास्थ्यलाभदेनेकेप्रयासशुरूकिएहैं।लोगआनलाइनजुड़करघरबैठकरयोगकररहेहैं,जिससेउनकामनोबलबढ़नेकेसाथकोरोनाकोहरानेकासाहसभीबढ़रहाहै।

कोरोनाकेचपेटमेंआएअधिकतरलोगयोगक्रियाओंकोअपनीदिनचर्याकाहिस्साबनाकरकोरोनाकोहरारहेहैं।इसकठिनसमयमेंयोगासन,प्राणायामवध्यानहीहमारीरोगप्रतिरोधकक्षमताकोबढ़ाकरहमेंनिरोगऔरस्वस्थरखसकतेहैं।योगाचार्यसुरेंद्रपालसिंहबतातेहैंकिजबशरीरमेंरोगसेलड़नेकीक्षमताबनीरहतीहैतोकोईभीबाहरीविषाणुयासंक्रमणहमेंहानिनहींपहुंचासकता।यहएकमूलभूतसिद्धांतहैकिहमेशाकमजोरप्राणीकोहीसतायाजाताहै।शक्तिशालीसेसभीडरतेहैं।योगासनकेसाथसाथयदिपरिवारमेंदैनिकयज्ञकियाजाएतोयज्ञकेद्वाराभीबीमारीके96प्रतिशतविषाणुनष्टहोजातेहैं।यज्ञऔरयोगभारतीयसंस्कृतिकेप्राणहै।उन्होंनेबतायाकिइसकोरोनामहामारीसेबचावकेलिएसावधानीबहुतजरूरीहै।घरमेंहीरहे।अत्यधिकआवश्यकहोतभीघरसेबाहरनिकलेऔरमास्ककाप्रयोगकरे।यदिकिसीव्यक्तिकोलगेकिउसेबुखार,खांसीयाअन्यकोईलक्षणहैतोलापरवाहीनबरतेंतुरंतजांचकराएऔरडाक्टरसेइलाजकराएं।अक्सरयहदेखागयाहैकिलोगकोरोनाहोनेपरभीलापरवाहीबरततेहैऔरफिरजबबातकब्जेसेबाहरहोजातीहै,तबइलाजकरानेकेलिएजातेहैं।अगरसमयरहतेइलाजमिलजाताहैतोलोगअधिकसंख्यामेंठीकभीहोरहेहैं।इसमेंघबराहटकीआवश्यकतानहींहै।सभीलोगअपनीरोगप्रतिरोधकक्षमताबढ़ानेकेलिएनियमितरूपसेयज्ञऔरयोगकरेंतथास्वस्थरहेंऔरमस्तरहे।उन्होंनेबतायाकिकोरोनाकालमेंसाधकएवंसाधिकाएंतोयोगकक्षाओमेंआनेस्वत:हीबंदहोगयेतबउन्होंनेअपनीपत्नीमुनेशदेवीवबेटाअंकुरमानकोसाथलेकरप्रतिदिननियमितरूपसेयोगासन,प्राणायामऔरध्यानकरतेहैऔरतत्पश्चातउत्तमसामग्रीऔरगायकेघीसेवैदिकमंत्रोंसेदैनिकयज्ञकरतेहै।ईश्वरकृपासेस्वस्थहै।इसीकड़ीमेंसभीकोलाभान्वितकरनेकेलिएनि:शुल्कआनलाइनयोगकक्षाकीशुरुआतमुजफ्फरनगरमेंकीहै।