यज्ञ करने से पवित्र होता है मन

बलरामपुर:युवाक्रांतिवर्षकोसफलबनानेकेलिएगायत्रीपरिवारकेतत्वावधानमेंप्रज्ञापुराणकथावनौकुंडीयगायत्रीमहायज्ञकाशुभारंभकियागया।सरस्वतीशिशुमंदिरविद्यालयप्रांगणमेंआयोजितमहायज्ञमेंनशाउन्मूलनकेलिएयुवाजागृतिसम्मेलनवनशामुक्तिप्रहसनकार्यक्रमकियागया।टोलीनायकभारतप्रसादशुक्लनेकहाकिप्रज्ञाकामतलबहोताहैपरिष्कृतबुद्धि।जबबुद्धिपरिष्कृतहोजातीहैतबसारेकार्यपरमार्थयुक्तसत्कर्मवालेहोजातेहैं।यज्ञजीवनकाआधारहै।यज्ञकेबिनाजीवनमेंकुछभीसंभवनहींहैं।यज्ञकरनेवालेअपनेजीवनकोसाधनामय,तपोमयबनातेहैं।यज्ञकरनेसेमनपवित्रहोजाताहै।सरोजयादवनेप्राणायाम,सूर्यध्यान,लॉ¨फगथेरेपीकेमाध्यमसेयोगसेस्वस्थरहनेकीविधाबताई।प्रवीणशर्मा,गजेन्द्रयादव,दीपकपाठक,दिलीपसिन्हाकीटोलीनेसंगीतकीऐसीस्वरलहरियांबिखेरीकिउपस्थितश्रद्धालुजनभावविभोरहोउठे।मेरेसद्गुरुहैंपालनहार,प्रथमप्रणामकरोगीतनेलोगोंकोझकझोरदिया।संदीपजायसवालनेबतायाकियहकथाशुक्रवारतकचलेगी।राजकुमारमोदनवाल,राधेगोविन्दगुप्त,¨प्रसवर्मा,अजयसैनी,भानु,राधेश्यामगुप्तसमेतकईलोगमौजूदरहे।