यहां तो अंदाज से दवा लिखते हैं डॉक्टर साहब

सिद्धार्थनगर:बर्डपुरनंबर12केलोगोंकोबेहतरस्वास्थ्यसुविधादेनेकेलिएसरकारनेबनकटवामेंन्यूपीएचसीकीस्थापनाकीहै।लापरवाहीकेकारणयहांग्रामीणोंकोस्वास्थ्यसुविधाएंनहींमिलपारहीहै।करोड़ोंरुपएकीलागतसेबनाभवनबेमतलबसाबितहोरहेहै।एककमरेमेंडाक्टरओपीडीचलतीहै।फार्मासिस्टदवादेतेहैं।जांचकीकोईव्यवस्थानहींहै।दर्द,बुखार,फोड़ा-फुंसीसेपरेशानलोगोंकोछोड़यहांगंभीररोगीआतेहीनहींहै।कारणयहांजांचसुविधानहींहै।चिकित्सकअंदाजसेदवालिखदेतेहैं।

विकासक्षेत्रकेबनकटवामेंनयाप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रकासंचालनपिछलेछहवर्षसेचलरहाहै।भवनकीस्थितिकफीदयनीयहै।तीनवर्षपहलेबाउंड्रीटूटगई।बनानेकेलिएकिसीनेप्रयासनहींकिया।मरीजोंकेलिएचारबेडरखाहुआहै।शनिवारकीसुबहजबअस्पतालकीपड़तालकीगईतोचौकानेंवालीजानकारीमिली1डॉविजयकुमारपर्चीभीखुदबनारहेथे।मौजूदमरीजोंकीपर्चीबनानेकेबादबारी-बारीसेसभीकोदवालिखा।फार्मासिस्टराजेन्द्रचौधरीदवावितरितकरतेरहे।स्वीपररमजानअली11बजेकेबादपहुंचे।लैबसहायकराघवेंद्रप्रतापववार्डव्यायभीखीप्रसादअवकाशपरमिले।यहांकिसीदिनछहमरीजतोकिसीदिन24मरीजतकइलाजकेलिएआतेहैं।शनिवारकोसिर्फतीनमरीजपहुंचेथे।परिसरमेंएकदेशीहैंडपम्पलगाहै।पानीकीटंकीहै।बावजूदइससेअस्पातलकोपानीकीसप्लाईनहींकीजाती।करोड़ोंरूपएकीलागतसेबनीआवासमेंबाउंड्रीनहोनेसेयहांकोईस्टाफरात्रिमेंनहींरूकता।

रहनेलायककोईव्यवस्थानहींहै।जांचकेलिएभीकोईव्यवस्थानहोनेसेमरीजोंकीसंख्यानहींबढ़रहीहै।फिरभीप्रतिदिनदोदर्जनतकमरीजआतेहैं।जोव्यवस्थाहैउसीमेंसबकाइलाजकियाजाताहै।कुछसमयमेंजांचकीव्यवस्थाहोनेवालीहै।

डॉविजयकुमार,प्रभारीचिकित्साधिकारीबनकटवा

बुखारकाइलाजकरानेआयाथा।जांचकीव्यवस्थानहोनेसेबुखारहोनेकाकारणपतानहींचलपाया।अबतोदूसरेअस्पतालमेंजानाहोगा।अस्पतालआनेकेलिएसम्पर्कमार्गतकनहींहै।

लगभगएककरोड़कीलागतसेबनानयासीएचसीभवनबनकटवाकेवलहाथीकादांतसाबितहोरहाहै।पर्याप्तडॉक्टर,जांचवदवाकीकोईव्यवस्थानहोनेसेदिक्कतहोतीहै।हमअपनेघरसेबच्चेकोदिखानेकेलिएआएजिसकोसुईलगानाथा।

रहमतुल्लाह,मरीज

हास्पिटलमेंएकडाक्टरतैनातहैं।सर्दीजुखामहोनेपरइलाजकेलिएयहांपहुंचेहैं।इलाजहुआहै।दवाभीमिलीहैजिससेकाफीलाभहै।सरकारकोचाहिएयहांकीव्यवस्थाठीककरे।जिससेग्रामीणोंकोआसानीसेइलाजमिलसके।

नयापीएचसीमें11माहपहलेएकडाक्टरकीतैनातीहुईहै।तबसेमरीजोंकीसंख्याबढ़रहीहै।आवासबनाहुआहै।वहखंडहरहोगयाहै।कोईरातमेंकैसेरहेगा।पूराअस्पतालझाड़ियोंमेंतब्दीलहै।

रामबृक्षयादव,ग्रामीण