वीसी सर..फीस मांग रहे 13 लाख रुपये, कॉलेज में फैकल्टी न मरीज

जागरणसंवाददाता,रोहतक:

झज्जरमेंस्थितव‌र्ल्डकॉलेजआफमेडिकलसाइंसकेविद्यार्थियोंनेबृहस्पतिवारकोस्वास्थ्यविज्ञानविश्वविद्यालयकेकुलपतिकार्यालयकेबाहरप्रदर्शनकिया।विद्यार्थियोंनेप्रबंधनकीकार्यशैलीपरसवालखड़ेकिएऔरजांचकीमांगकीहै।विद्यार्थियोंनेकुलपतिसमेतदूसरेप्रशासनिकअधिकारियोंकोलिखितमेंशिकायतदेकरकॉलेजकानिरीक्षणऔरमेडिकलकाउंसिलऑफइंडियासेजांचकरानेकीमांगकीहै।विद्यार्थियोंनेआरोपलगायाहैकिउनकेकॉलेजमेंनतोफैकल्टीहैंऔरनहीमरीज।मेडिकलकॉलेजकेनामपरफर्जीवाड़ाकियागयाहै।फीसकेनामपरकरीब13लाखरुपयेकीमांगकीजारहीहैजबकिसुविधाओंकेनामपरअलगसेलूटमचारखीहै।साथही,यहभीबतायाकिकॉलेजमेंसत्र2017-18मेंएकभीदाखिलानहींहुआहै।इससत्रमेंभीऐसीहीगुंजाइशहै।ऐसेमेंमेडिकलकाउंसिलकेनियमोंकेमुताबिक,वहपहलेबैचकेविद्यार्थीहैं,अगरदाखिलेनहींहुएतोउनकीडिग्रीभीफंससकतीहै।ऐसेमेंविद्यार्थियोंनेअपनेभविष्यकोसंकटमेंबतातेहुएन्यायकीगुहारलगाईहै।वहीं,प्रदर्शनकररहेविद्यार्थियोंकोसमझानेपहुंचेविश्वविद्यालयकेडीनएकेडमिकनेऔचकनिरीक्षणकरनेकाआश्वासनदियाहै।

विद्यार्थियोंसेशैक्षणिकसत्र2018-19केलिएयहमांगीगईहैफीसविषयडेढ़सालकीफीस

ट्यूशनफीसऔरडेवलपमेंटचार्ज10,50,000

हॉस्टलफीस01,50,000

इंटर्नलएग्जामिनेशनफीस12,000

मेडिकलइंश्योरेंस01,500

सीएमईचार्जेस45,000

मिसलेनियसचार्जस22,500कुल13,77,000रुपयेनोट:यहविद्यार्थियोंद्वाराउपलब्धकराईगईकॉलेजफीसकेअनुसारहीहै।

40केस्थानपरसिर्फचारफैकल्टी,कैसेहोपढ़ाई

विरोधप्रदर्शनकररहेविद्यार्थियोंनेबतायाकिकॉलेजमेंपहलेवर्षकीपढ़ाईकेलिएतीनविभागहैं।साथही,दूसरेवर्षमेंचारविभागहैं।सभीकेलिएकरीब40सदस्योंकीफैकल्टीहोनीचाहिए।लेकिनसिर्फचारहीशिक्षकहैं।ऐसेमेंएमबीबीएसकीपढ़ाईकैसेहो।विद्यार्थियोंकेमुताबिक,कॉन्टीन्यूएशनआफमेडिकलएजुकेशनयानीकिसीएमईभीकॉलेजकेहीशिक्षकआपसमेंआयोजनकरलेतेहैं।जबकिइसकेलिएप्रतिवर्षकरीब30,000रुपयेलिएजातेहैं।जबवहइनसबकीशिकायतकरतेहैंतोउनकेपरिवारवालोंकेपासफोनकरबर्खास्तकरनेकीधमकीदीजातीहै।148एमबीबीएसविद्यार्थियोंकासंकटमेंभविष्य

विद्यार्थियोंनेबतायाकिवहपहलेबैचकेहैं।संख्याकरीब150है।कॉलेजमेंमेडिकलकाउंसिलआफइंडियाकीटीमजांचकेलिएनहींआरहीहै।इससेअनियमितताओंकोबोलाबालाहै।मेडिसनसेलेकरआईसीयूऔरओपीडीभीएमसीआईकेनियमोंकेमुताबिकनहींचलरहीहैं।ऐसेमेंभावीएमबीबीएसछात्रोंकाभविष्यअधरमेंलटकाहुआहै।उन्होंनेबतायाकिकाउंसि¨लगकेदौरानविश्वविद्यालयकीओरसेकॉलेजअलॉटकिएजानेकेबादहीउन्होंनेविश्वविद्यालयकीविश्वसनीयतापरदाखिलालियाहै।अबउन्हेंसिर्फधोखामिलाहै।झज्जरमेंभीप्रदर्शनकरडीसीकोसौंपाथाज्ञापन,अबविजसेलगाएंगेगुहार

विद्यार्थियोंनेबतायाकिझज्जरमेंभीउन्होंनेडीसीकोज्ञापनसौंपकरकार्रवाईकीमांगकीथीलेकिनएकसप्ताहसेअधिककासमयगुजरजानेकेबादअभीतककार्रवाईनहींहुई।इसलिएअबवहकुलपतिकोशिकायतदेनेपहुंचेहैं।अगरयहांसेभीकार्रवाईनहींहुईतोवहस्वास्थ्यमंत्रीअनिलविजसेभीगुहारलगाएंगे।उन्होंनेबतायाकिजबतककार्रवाईनहींहोतीऔरस्थितिनहींसुधरतीहै,वहअपनाविरोधप्रदर्शनजारीरखेंगे।विद्यार्थियोंनेसीएम¨वडोपरभीशिकायतलगानेकीबातकहीहै।वर्जन

विद्यार्थियोंकीशिकायतलीगईहै।एमसीआईऔरसरकारकेनियमोंकेमुताबिकजोभीबेहतरहोगा,विद्यार्थियोंकेहितमेंफैसलालियाजाएगा।मामलेकीजांचकेबादहीसरकारकेदिशा-निर्देशानुसारकोईनिर्णयलियाजासकताहै।

-डा.प्रशांतकुमार,प्रोफेसरइंचार्ज,जनसंपर्कअधिकारी,यूएचएस,रोहतक।