विद्यार्थियों से मिलने को आतुर शिक्षक, ऑनलाइन पढ़ाई 'मजबूरी'

अश्विनीशर्मा/तरलोकनरूला,मोगा

शिक्षककाजीवनभीविद्यार्थीकेबिनाअधूराहीहै।आजकलउन्हेंभीमजबूरीमेंऑनलाइनप्रक्रियाकासहारालेनापड़रहाहै।जहांविद्यार्थियोंकेबिनास्कूलसुनसानहैं,वहींशिक्षकोंमेंभीविद्याथियोंसेआमने-सामनेमिलनेकीललकबरकरारहै।स्कूलबिनाविद्यार्थियोंकेहोनेकेकारणउनकामनभीउदासहै।वेभीविद्यार्थियोंकीस्कूलकीकक्षामेंहोतीशरारतोंऔरकक्षामेंरू-ब-रूहोकरपढ़ानेकोआतुरहैं।बतादेंकिकोविड-19केकारणस्कूलोंकेबंदहोनेकेचलतेस्कूलप्रबंधकऑनलाइनशिक्षाकेजरियेहीविद्यार्थियोंकोघरोंमेंपढ़ानेकाप्रयासकररहेहैं।वहींअध्यापकभीबच्चोंकोऑनलाइनहोमवर्कदेकरउनसेतालमेलबनाएहुएहै,ताकिशिक्षाकेस्तरकोकायमरखाजासके।भलेहीइसआधुनिकयुगमेंऑनलाइनशिक्षासार्थकसिद्धहोरहीहै।मगर,इसदौरानकईपरेशानियोंकाभीसामनाकरनापड़रहाहै।कोईवक्तथाजबअध्यापकबच्चोंकेमनोभावकोजानतेहुएभीउन्हेंपढ़ातेथे।मगर,आजकलमहामारीमेंऑनलाइनयहसंभवनहींहे।वहींअध्यापकोंकेअनुसारमहामारीमेंअबउनकीड्यूटी12घंटेचलतीरहतीहै।

इसऑनलाइनशिक्षाकेनएअनुभवकेसाथवेखुदभीजुड़रहेहैंऔरबच्चोंकोभीजोड़रहेहैं।उनकेअनुसारउन्हेंभीदेररततकऑनलाइनरहनापड़ताहै।पतानहींकबकिसबच्चेकाफोनआजाएकियहप्रश्नसमझनहींआया।तबउन्हेंसमझानापड़ताहै।उनकेअनुसारइसऐसेदौरमेंजोबच्चेकमजोरवर्गसेहैंऔरजिनकेपासमोबाइलफोननहींहै,उन्हेंज्यादापरेशानीझेलनीपड़रहीहै।उनकेपरिजनकामसेलौटकरजबघरआतेहैं,तभीयेबच्चेस्कूलकाकामकरपातेहैं।

-ऑनलाइनप्रणालीवरदानवनुकसानदायक

एसडीग‌र्ल्सस्कूलकीअध्यापिकामीरामजीठियाकाकहनाहैकिपाठ्यक्रमकरवानेतथाबच्चोंकीपढ़ाईकेनुकसानकेमद्देनजरऑनलाइनकक्षाएंजहांएकऔरवरदानहैं,वहींयेकहींनकहींपरेशानीभीहै।वहआठवीं,नौवींवदसवींकक्षाकोसाइंसपढ़ातीहैं।इसकेअतिरिक्त10वीं,11वींव12वींकीअंग्रेजीकीऑनलाइनकक्षाएंलेरहीहैं।ऑनलाइनकेलिएवीडियोकाएकहीलेवलबनानापड़ताहै।जिससेहोनहारबच्चोंकोफायदापहुंचताहै,परंतुएवरेजबच्चेनजरअंदाजहोजातेहैं।जिनघरोंमेंएकहीमोबाइलहैऔरजिसपरनेटचलताहै।उनबच्चोंकेपितादेररातकोजबघरआतेहै,तभीबच्चेअपनाकामकरतेहैं।कईबारनसमझआनेपरजबबच्चोंकारातकोफोनआताहै,तोएकअध्यापककाफर्जहोनेकेनातेउन्हेंउससमयभीसमझानापड़ताहै।

सर्वपक्षीयविकासमेंऑनलाइनमहत्वपूर्ण

आरकेएससीनियरसेकेंडरीपब्लिकस्कूलकीअंग्रेजीकीशिक्षिकागुरप्रीतमिड्डाकाकहनाहै।परिवर्तनप्रकृतिकानियमहैऔरकोरोनामहामारीनेबहुतबड़ापरिवर्तनकरदिखायाहै।कोविड-19महामारीकेचलतेबहुतसेबदलावआएहैं।इसमेंशिक्षाप्रणालीभीशामिलहैं।बच्चोंकोपढ़ाईसेजोड़नेकेलिएऑनलाइनकक्षाएंशुरूकीगई,ताकिबच्चेजोकिकच्चीमिट्टीकेसमानहोतेहैं,उनकाध्यानइधर-उधरनभटके।वेपढ़ाईमेंजुटेंऔरउनकासर्वपक्षीयविकासहोसके।

विद्यार्थियोंसेमिलनेकोमनआतुर

डीएमकॉलिजिएटस्कूलकीकामर्सकीशिक्षिकाप्रभजोतकौरकाकहनाहैकिऑनलाइनशिक्षाप्रणालीउनकेलिएएकनयाअभ्यासहै।इसदौरानकईबच्चेअच्छारिस्पांसदेतेहैं।कुछऐसेहैंजिनकोसमझनहींलगती,वहइसेइतनामहत्वनहींदेपाते।उनकोबार-बारऑनलाइनहोकरसमझानापड़ताहै।वहींऑनलाइनशिक्षाकेदौरानकईतरहकीपरेशानियांभीआतीहैं।असलमेंअबउनकाविद्यार्थियोंसेमिलनेकाबेहदमनकरताहै,लेकिनमहामारीकेचलतेस्वास्थ्यकाभीख्यालरखनाजरूरीहै।मजबूरन,ऑनलाइनप्रक्रियाकाहीसहारालेनापड़रहाहै।

टेक्नोलॉजीइस्तेमालकरनेकासहीमौका

स्टेपिगस्टोन्समिलेनियमस्कूलकीअध्यापिकाहरप्रीतकौरकाकहनाहैकिइसमहामारीकेसमयमेंआजहमेंदूसरेदेशोंसेमुकाबलाकरनेकामौकामिलाहै,जोहमसेकईवर्षआगेचलरहेथे।शिक्षाकेक्षेत्रमेंआजकेइसआधुनिकजमानेमेंजहांकंप्यूटरमोबाइलकाजमानाहै,हमेंउसकीदौड़मेंशामिलहोनापड़ेगा।जहांलॉकडाउनकाहमेंनुकसानहुआहै।वहींएकफायदाभीहुआहैकिहमऑनलाइनकक्षाएंलगाकरबहुमूल्यतकनीककेसाथजुड़गएहैं।पहलेजहांहमकॉपीपेनकेमाध्यमसेरटाहुआसिखातेथे।अबहमबच्चोंकोऑनलाइनकेमाध्यमसेप्रेक्टिकलशिक्षादेनेकीकोशिशकररहेहैं।इसप्रकारकीशिक्षाप्रणालीसेहमेंभीबहुतकुछसीखनेकोमिलरहाहै।

सरकारीविद्यालयभीहोरहेअपडेट

सरकारीप्राइमरीस्कूलदत्तरोडकेअध्यापकहर्षगोयलकाकहनाहैकिबच्चोंकेलिएस्कूलोंद्वारादीजारहीआधुनिकशिक्षासार्थकसिद्धहोरहीहै।इसदौरानऐसेबच्चोंकोजहांसरकारहरसुविधाउपलब्धकरवारहीहै,वहींबच्चोंकेअभिभावकभीसहयोगकररहेहैं।हररविवारशिक्षणपरिणामोंपरआधारितपंजाबस्तरीयटेस्टलियाजारहाहै।सबसेपहलेएनिमेशनआधारितशिक्षाप्रदानकरनेकीशुरुआतभीमोगाजिलाकेलिएआईहै।जिसकाआजपंजाबभरसेलाखोंलोगलाभलेरहेहैं।अध्यापकोंनेएकप्रेरककेरूपमेंआगेआतेहुएविद्यार्थियोंसेसंपर्कबनाएरखाहै।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!