विद्यालय में खाते खाना, पानी पीने जाते घर

बेहटागोकुल:परिषदीयविद्यालयोंमेंबच्चोंकेस्वास्थ्यपरध्यानदेनेकीबाततोकहीजारहीहैलेकिनअभीभीविद्यालयनदेखीकाशिकारहैं।बावनविकासखंडकेबरखेरामेंप्राथमिकविद्यालयमेंलगाहैंडपंपदूषितपीलापानीदेरहाहै।जिसमेंबदबूभीआतीहैऔरबच्चोंकेबीमारहोनेकीपूरीसंभावनाहै।ऐसेमेंबच्चेविद्यालयमेंमिड-डेमीलखातेऔरफिरपानीपीनेघरजातेहैं।ऐसाआजसेनहींपिछलेकईमहीनोंसेचलरहाहैपरसिस्टमकाइसतरफकोईध्याननहींजारहा।

शुद्धपेयजलऔरजलजनितबीमारियोंकोलेकरजहांसरकारगंभीरहैऔरउसपरलाखोंकरोड़ोंरुपयाखर्चकियाजारहाहै।बरखेराप्राथमिकविद्यालयमेंबच्चोंकोशुद्धपेयजलनहींमिलरहाहै।विद्यालयकेप्रांगणमेंलगाएकमात्रइंडियामार्काहैंडपंपखुदहीबीमारहैऔरइसबीमारहैंडपंपसेबालूकेसाथपीलापानीनिकलताहै।जिसकोबच्चेपीतेभीहैंऔरइसीपानीकाउपयोगमिड-डेमीलबनानेमेंभीकियाजाताहै।विद्यालयमें100सेज्यादाबच्चेपंजीकृतहैंऔरउनकेपानीपीनेकाकोईऔरसाधनभीनहींहै।प्रधानाध्यापकमोहम्मदअलीनेबतायाकिगंदेपानीकेलिएउच्चाधिकारियोंसेशिकायतकीगईहैं,लेकिनकोईकार्रवाईनहींहुई।एकबारवहखुदअपनेरुपयोंसेनलकोसहीकराचुकेहैं,लेकिनकुछदिनसहीआनेकेबादउसकीहालतजसकीतसहोगईहै।