वेटलैंड में प्रवासी पक्षियों का आना शुरू

सुभाषशर्मा,नंगल

दूसरेदेशोंमेंबर्फबारीशुरूहोचुकीहैजिसकारणप्रवासीपक्षियोंकायहांआनाशुरूहोगयाहै।नंगलडैमकीसतलुजझीलएवंराष्ट्रीयवेटलैंडमेंप्रवासीपक्षियोंकेआगमनसेवादियोंमेंरौनकलौटआईहै।हरवर्षयहांआनेवालेपक्षियोंकीसंख्याहजारोंमेंहोतीहैजोवादियोंमेंचारमाहकेप्रवासकेबादगर्मियांशुरूहोतेहीअपनेवतनलौटजातेहैं।झीलकेसाथसटेइलाकोंस्वामीपुरबाग,हंडोला,बरमला,तलवाड़ा,विभोरसाहिब,पींघबढ़केसाथ-साथदोबेटाकॉलोनीकेसाथझीलकेकिनारोंपरप्रवासीपक्षीलोगोंकाआकर्षणबनचुकेहैं।पक्षियोंकाझीलमेंउड़ानभरनातथाअठखेलियांकरनाबेहदसुंदरदृश्यप्रस्तुतकररहाहै।

दूरदेशोंसेआचुकाहैरूडीशेल्डकवग्रेलेगगूज

वन्यप्राणीविभागकेरेंजअधिकारीसुरजीत¨सहवस्थानीयइंटरप्रटेशनसेंटरकेप्रभारीअमृतलालनेबतायाकिइसबारझीलमेंपहुंचचुकेप्रवासीपक्षियोंमेंशामिलरूडीशेल्डक,ग्रेलेगगूज,गैडवाल,कोरमोरेंटआदिप्रजातियोंकेप्रवासीपक्षीपहुंचचुकेहैं।संभावनाहैकिकॉमनटील,वीजन,क्रेसटिडग्रेव,टफटिडडकभीझीलमेंशीघ्रपहुंचजाएंगे।

यहांक्योंआतेहैंपक्षी

भारतकेअलावाविश्वकेठंडेदेशोंथाईलैंड,साईबीरिया,जापान,रूस,अफगानिस्तान,स्विटजरलैंड,इंडोतिब्बत,वर्मा,मध्यएशियाकेकईदेशोंमेंबर्फबारीहोनेसेठंडबढ़जानेपरहजारोंमीलकीदूरीतयकरकेहजारोंकीसंख्यामेंप्रवासीपक्षीशिवालिककीपहाड़ियोंमेंआकरशरणलेतेहैं।अपनेवतनमेंमौसमअनुकूलहोतेहीप्रवासीमार्चकेआसपासहीवापसीकेलिएउड़ानभरजातेहैं।

चारहजारपक्षीआएथेपिछलेसाल

पिछलेसालझीलमेंआएपक्षियोंकीगणनाकरनेवालेसंगठनोंवाइल्डलाइफविभाग,चंडीगढ़कीएवीएनहैवीटेटसोसायटी,चंडीगढ़वर्डक्लब,जागृतिसंस्थातथाडब्ल्यूडब्ल्यूएफनेयहांपहुंचेपक्षियोंकी42प्रजातियोंकीमौजूदगीदर्जकीथी।वेटलैंडवसटेइलाकेमें42प्रजातियोंकेपक्षियोंकीसंख्याकरीबचारहजारदर्जकीगईथी।सबसेअधिकसंख्यारेडक्रस्टडपोचर्डकीथीजबकिकूटसप्रजातिके1092,कामनपोचर्ड540तथागैडवालकीसंख्या310पाईगईथी।