उत्‍तराखंड में तीन सीएम बदल गए लेकिन नशाखोरी के खिलाफ नहीं उठाया कोई ठोस कदम

जागरणसंवाददाता,हल्‍द्वानी:विधानसभाचुनावकासमयनजदीकआगयाऔरनेताचुनावीनशेमेंहैं।जनप्रतिनिधियुवाओंकोनशेकेदलदलमेंदेखरहेहैंमगरबेफिक्रहैं।इधर,सरकारकापांचसालकाकार्यकालपूराहोनेकोहै।तीनसीएमबदलगएलेकिननशाखोरीकेखिलाफठोसकुछभीनहींदिखा।शराब,गांजा,चरस,स्मैक,हेरोइनआदिघातकनशेकाप्रचलनबढ़ताहीजारहाहै।इसमेंझुग्गी-झोपडिय़ोंसेलेकरपाशकालोनियोंतककेबच्चेशामिलहैं।मानकोंकोधताबतातेहुएशहरोंमेंखुलेनशामुक्तिकेंद्रइसकीतस्दीककरतेहैं।बेसुधसिस्टमकेपासइनकेआंकड़ेतकनहीं।देहरादूनमेंडीएमनेएसओपीतोबनाली,लेकिनबाकीजिलोंमेंव्यवस्थाबेहोशहै।लोगयहीकहरहेहैंकिअपनाउत्तराखंडभीअबउड़तापंजाबकीतरहहोगया।अबसीएमपुष्करसिंहधामीनेहरजिलेमेंनशामुक्तिकेंद्रखोलनेकीघोषणाकीहै।जबकितीनसालसेडा.सुशीलातिवारीअस्पतालमेंनशामुक्तिकेंद्रखोलनेकीफाइलगायबमेंहै।

ऐसेअस्पतालकालाभहीक्या

सरकारीसिस्टमकोहरकोईकोसरहाहै।कोसनेवालोंमेंवोलोगभीशामिलहैं,जोखुदअव्यवस्थाकेलिएजिम्मेदारहैं।बातकरतेहैंराजकीयमेडिकलकालेजअल्मोड़ाकी।जिसकेजिम्मेअबबेसअस्पतालभीहै।इससेपर्वतीयक्षेत्रकेलोगोंकीउम्मीदेंतबऔरबढ़गईथी,जबहल्द्वानीसे25वरिष्ठडाक्टरोंकातबादलाअल्मोड़ाकियागया।कालेजप्रशासननेजैसे-तैसेडाक्टरोंकीसंख्या47करदीथी।फिरभीमेडिकलकालेजकोनहीनेशनलमेडिकलकमीशनसेएमबीबीएसपाठ्यक्रमकेलिएमान्यतामिलीऔरनहीवहांपरबेहतरइलाजमिलपारहाहै।यहघोरविडंबनाहै।तीनदिनपहलेसांसकीबीमारीकेइलाजकेलिएस्वजनपांचसालकेबच्चेकोबेसअस्पताललेगएथे,लेकिनउसेहल्द्वानीसुशीलातिवारीअस्पतालहीरेफरकरदिया।जबयहीकरनाथातोकालेजवअस्पतालबननेकाक्यालाभ?

कर्मचारियोंपरफेकाचुनावीपासा

चुनावजीतनाहै।इसकेलिएकुछभीकरनापड़े,करेंगे।अन्यराजनीतिकदलोंकेसाथभाजपानेभीयहीरणनीतिअपनालीहै।विपक्षीदलोंनेभीसपनेदिखानेहैं,ताकिजनताअपनेपक्षमेंआए।सरकारकोजनहितकेनिर्णयलेनेहैं,जिससेकिएंटीइनकंबेंसीकामाहौलनबने।इसीकेसाथहीसरकारनेपांचसालसेस्वास्थ्यबीमाकोलेकरपरेशानआंदोलनरतकर्मचारियोंवपेंशनरोंकोलाभदेनेकीकोशिशहै।सेंट्रलगवर्नमेंटहेल्थस्कीमवएम्सकीदरोंमेंइलाजकीसुविधाकेआदेशकरदिएहैं।इससेराज्यकेढाईलाखकर्मचारियोंवपेंशनरोंकोलाभमिलेगा।अबयहदेखनाहैकिइसलाभकोदिलानेकेलिएसरकारकमसमयमेंनिजीअस्पतालोंसेकिसतरहकाकरारकरतीहै।क्योंकिआयुष्मानयोजनासेअभीचंदअस्पतालहीजुड़ेहैं।

दावेदारोंकेनिरालेदावे

चुनावीतैयारियोंकेबीचराष्ट्रीयदलोंमेंदावेदारीकाखेलभीअजब-गजबकाहै।कुछनेताओंकीबातहीअजूबीहै।येनेता,ऐसेनेताओंकोपछाड़तेहुएदिखनेलगेहैं,जोपूरेपांचसालआमजनकेसुख-दुखकेसाथीबनेरहे।बरसातीमेंढककीतरहबाहरनिकलआएहैं।स्टूडियोमेंखींचीचमकदारफोटोकेजरियेहोर्डिंग-बैनरमेंचमकरहेहैं।बड़ेनेताओंकीगणेशपरिक्रमाइनकीपहचानहै।इन्होंनेबायोडाटाजेबमेंलेकरदेहरादूनसेलेकरदिल्लीकीदौड़लगारखीहै।यहीनहींइन्होंनेकुर्ता-पायजामाभीसिलवालियाहै।पार्टीकार्यालयोंमेंभीचक्करबढ़गएहैं।इससमयपूरेउत्तराखंडमेंयहनजाराआमहै।भाजपावकांग्रेसमेंचलरहेऐसेमाहौलसेबेचाराजमीनीकार्यकर्ताअसमंजसमेंहै।कुमाऊंकेप्रवेशद्वारहल्द्वानीमेंपार्टीकार्यालयमेंउदासबैठेवरिष्ठनेताकहनेलगतेहैं,चुपचापबैठेरहो।तमाशादेखतेरहो,नहींतोमनखराबहोजाताहै।