टिंडे से किसानों के घर आ रही खुशहाली

जागरणसंवाददाता,उन्नाव:सिकंदरपुरकर्णब्लाकक्षेत्रमेंहोरही¨टडाकीखेतीकिसानोंकोसमृद्धकररहीहै।गंगाकिनारेसेमैदानीइलाकेतककरीबबीसकिमीकेदायरेमेंबड़ीसंख्यामेंकिसान¨टडाकीखेतीकररहेहैं।देशभरमेंइनकीखासीमांगाहै।

ऐसेकरतेहैं¨टडाकीखेती

अमूमनजुलाईमेंबोईजानेवाली¨टडाकीफसलमहजएकमहीनेमेंफलदेनेलगतीहै।इसफसलकेलिएबलुईमिट्टीकोबेहतरमानाजाताहै।फसलमेंएकबोरीयूरियाऔर25किलोडीएपीप्रतिबीघाकीऔसतसेपर्याप्तमानीजातीहै।महजदोमहीनेकीइसफसलमेंनिकाईउपजबढ़ानेकेलिएअहमहै।इसफसलमेंफलोंकीतुड़ाईएकदिनछोड़करहोतीहै।

अतिरिक्तलाभकीफसलहै

¨टडाकीखेतीकरनेवालेकिसानफसलचक्रनहींटूटनेदेतेहैं।गेहूंकीफसललेनेकेबादजुलाईमें¨टडाकीफसललेतेहैं।सितंबरकेअंततक¨टडाकीफसलखत्महोजातीहैऔरवेइन्हींखेतोंकोतैयारकरकेआलूकीबुआईकरदेतेहैं।इसफसलचक्रमेंखेतोंको¨टडाऔरआलूकीफसलरूपीहरीखादभीमिलजातीहै।हालांकिगेहूंकीफसललेनेकेलिएकिसानोंकोकच्चेआलूकीखोदाईकरनीहोतीहैऔरदेरसेबुआईकियाजानवालेसाठागेहूंकीफसललेनाहोताहै।

रोजाना25से30ट्रकजातेबाहर

पचोड्डाकेकरीबभैंसईबस्तामेंप्रतिवर्षअगस्तसेक्षेत्रीयवबाहरकेव्यापारियोंकाआनाप्रारंभहोजाताहै।अक्टूबरकेअंततकयहांपरबाजारगुलजाररहताहै।नौबस्तानिवासीव्यापारीविवेकदीक्षितबतातेहैंकिसीजनमेंबीससेतीसलाखरुपयेप्रतिदिनतककायहांकीमंडीमेंकिसानोंकोभुगतानकियाजाताहै।यहांसेप्रतिदिन25से30ट्रकदिल्ली,बनारस,इलाहाबादसमेतएकदर्जनसेअधिकशहरोंकेलिएलोडहोतेहैं।विवेककेअनुसार¨टडाकेसाथहीअबकरेलाकीओरभीकिसानोंकारुझानबढ़रहाहै।

¨टडाकीकहानी,किसानोंकीजुबानी

साढ़ेतीनबीघाजमीनमेंखेतीकरकेगेहूंसेहोनेवालीआयकोबचातेहैं।¨टडाऔरआलूकीबिक्रीसेसालभरकेघरखर्चवबच्चोंकीपढ़ाईआदिकेखर्चआसानीसेचलजातेहैं।-चंद्रपाल,पचोड्डा

सवाबीघानिजीऔरकरीबदोबीघाबटाईकीजमीनपरगेहूं,आलू,खीरा,मकईऔर¨टडाकीखेतीकरकेघरगृहस्थीआसानीसेचलरहीहैऔरकामभरकीबचतभीहोरहीहै।-सुरेशकुमार,बंदहमीरपुर

महजचारबिसुआनिजखेतहैऔरचारबीघाठेकेपरजमीनलीहुईहै।¨टडाकीखेतीसे50हजारतककीबचतहोजातीहै।अन्यफसलेंघरखर्चकेलिएपर्याप्तहैं।-छंगा,भैंसई

निजीऔरबटाईकीछहबीघाजमीनमेंकरीबएकलाखकीवर्षभरमेंबचतहोजातीहै।इसमेंसे¨टडा,खीरा,ककड़ी,आलूकीफसलसेहोनेवालीआयसबसेअधिकरहतीहै।-कप्तान¨सह,हसनापुर