ठंड के कारण फटने लगे कान के पर्दे, निकल रहा खून, भागलपुर के जेएलएनएनएमसीएच एक महीने में पहुंचे 35 रोगी

जागरणसंवाददाता,भागलपुर। कड़ाकेकीठंडमेंपरहेजनहींकरनेकीवजहसेभागलपुरऔरइसकेआस-पासकेक्षेत्रोंमेंकानकेरोगियोंकीसंख्यातेजीसेबढ़रहीहै।सबसेअधिककानकेपर्देफटनेकेकेसआरहेहैं,जोगंभीरचिंताऔरचिंतनकाविषयहै।

जवाहरलालनेहरूचिकित्सामहाविद्यालयअस्पताल(जेएलएनएमसीएच)केईएनटीविभागमेंऐसेमरीजोंकीसंख्यामें30फीसदतकबढ़ीहै।पिछलेचारसप्ताहमें35सेज्यादाकानकेपर्देफटेमरीजोंकाआपरेशनकियाजाचुकाहै।कईऔरकतारमेंहैं।कईमरीजनिजीक्लीनिकोंमेंभीइलाजकरारहेहैं।

क्याकहतेहैंविभागाध्यक्ष

ईएनटीविभागकेअध्यक्षडा.एसपीसिंहनेकहाकिजोलोगकानऔरगलाखुलाछोड़तेहैं,उन्हेंठंडकीवजहसेसर्दीहोरहीहै।सर्दीकीवजहसेकानकीनलीसंक्रमतिहोजातीहै।जिससेकानबहनेलगताहै।धीरे-धीरेकानकेपर्देफटनेलगतेहैं।गलाभीदर्दकरनेलगताहै।इसतरहकेमरीजोंकीसंख्यामेंबढ़ोतरीहुईहै।इनकेकानकेपर्दोंकाआपरेशनकियाजारहाहै।

अस्पतालमेंदोविधिसेकिएजारहेआपरेशन

ईएनटीविभागकेसहायकप्राध्यापकडा.धर्मेंद्रकुमारनेकहाकिचारसप्ताहमें35मरीजोंकाआपरेशनकियाजाचुकाहै।माइस्क्रोपद्वाराआपरेशनकरनेपरमरीजकोचारसेपांचदिनोंतकरखाजाताहै।वहींदूरबीनसेआपरेशनकरनेपरदूसरेदिनहीमरीजकोछुट्टीदेदीजातीहै।अस्पतालमेंदोनोंविधिसेआपरेशनकिएजारहेहैं।ज्यादातरबच्चेऔरवयस्कपीडि़तहोरहेहैं।बुजुर्गोंकोयहपरेशानीकमहै।

ठंडसेबचें,सर्दीहोनेपरभापलें

चिकित्सकोंकेमुताबिकठंडमेंकानऔरगलेकोबचानाआवश्यकहै।अक्सरदेखाजाताहैकिकड़ाकेकीठंडमेंभीबहुतसेलोगबाइकचलातेवक्तटोपीयामफलरनहींलगातेहैं।गलाभीखुलारहताहै।इसलिएठंडलगजातीहै।घरोंमेंभीजोलोगकानऔरगलेकोढंककरनहींरखतेहैं,उन्हेंभीठंडलगनेसेसर्दीहोजातीहै।सर्दीहोनेपरगर्मपानीकाभापलें।नेजलड्रापडालनेसेभीआराममिलताहै।

तिथिइलाजकराएमरीजोंकीसंख्या

(चिकित्सककेमुताबिकइनमें30फीसदमरीजोंकेकानबहरहेथे।कईलोगोंकेकानकेफटेपर्देकाआपरेशनकियागया।)