तीनों सेनाओं के लिए नेविगेशन क्षमता का हिस्सा होगा आईआरएनएसएस :एएसटीई

बेंगलूरू,चारअक्तूबर:भाषा:एयरवाइसमार्शलसंदीपसिंहनेआजकहाकिभारतीयक्षेत्रीयमार्गदर्शकउपग्रहतंत्र:आईआरएनएसएस:भारतीयसशस्त्रबलोंकेलिएमार्गदर्शन:नेविगेशन:सहयोगकीक्षमताकाहिस्साहोगाऔरइसेतीनोंसेनाओंकेविमानोंसेजोड़नेकीतैयारीचलरहीहैं।एयरक्राफ्टएंडसिस्टम्सटेस्टिंगइस्टेब्लिशमेंट:एएसटीई:केकमांडेंटसिंहनेयहांसंवाददाताओंसेकहा,हमनेअपनेविमानोंमेंआईआरएनएसएसऔरइससेजुड़ीप्रणालियोंकोलगानेकीतैयारियांशुरूकरदीहैं।हमकुछभीकहेंलेकिनजीपीएसएकबाहरकीप्रणालीहै।यहअच्छीऔरव्यापकइस्तेमालवालीहै,लेकिनअसैन्यऔरसैन्यदोनोंतरहकेइस्तेमालकेलिएहमारीअपनीनेविगेशनप्रणालीहोनाजरूरीहै।उन्होंनेकहाकितीनोंसेनाओंने,खासतौरपरवायुसेनानेअपनेविमानोंमेंउन्हेंलगानेकीतैयारियांशुरूकरदीहैं।सिंह84वेंवायुसेनादिवससमारोहोंकीपूर्वसंध्यापरमीडियाकर्मियोंकेएएसटीईकेभ्रमणकेदौरानसंवाददाताओंसेबातचीतकररहेथे।उन्होंनेकहा,आईआरएनएसएसजीपीएसकाभारतीयसंस्करणहैऔरहमइसेनियंत्रितकरतेहैं।हमारीसटीकताअधिकहोगी।इसलिएनिश्चितरूपसेआईआरएनएसएसअसैन्यउपयोगकेअलावाहमारीतीनोंसेनाओंकेलिएनेविगेशनसहयोगक्षमताकाहिस्साहोगा।हमइसप्रक्रियामेंहैंऔरहमआईआरएनएसएसकाउपयोगकरेंगे।इसरोकीआईआरएनएसएसप्रणालीभारतद्वाराविकसितअपनीस्वतंत्रप्रणालीहै।