स्वच्छता, सकारात्मक सोच व सादगी के कारण साहूबहियार गांव तक नहीं पहुंचा कोरोना

संवादसहयोगी,तोपचांची:मदयडीहपंचायतकेब्राह्माणबाहुलगांवसाहूबहियारकेग्रामीणोंकीस्वच्छता,सकारात्मकसोचतथाउनकीसादगीभरीजीवनशैलीकेकारणकोरोनाजैसीमहामारीआजतकइसगांवकेलोगोंकोछूभीनहींपाईहै।उक्तगांवमेंब्राह्माणसमाजके130परिवारकेकरीबपांचसौलोगरहतेहैं।यहांनिवासकरनेवालेलोगवर्षोसेस्वच्छतातथासकारात्मकसोचकोअपनाएंहुएहैं।इसकेकारणआजतककोईभीग्रामीणयहांकोरोनासेसंक्रमितनहींहुआहै।समाजसेवीसहगांवकेनिवासीरणवीरचौबेनेबतायाकिहमलोगवर्षोंसेस्वच्छताकोविशेषमहत्वदेतेआरहेहैं।सुबहजल्दीउठकरस्नानकरनाऔरउसकेबादपूजापाठकरनाहमाराजीवनशैलीहै।यहीकारणहैहमसभीआजउक्तबीमारीसेकोसोंदूरहैं।कोरोनाकालमेंबदलगईगांवकीतस्वीर:

कोरोनाकालकेपूर्वगांवकेचौपालपरसुबहशामलोगोंकीभीड़लगतीथी,लेकिनपहलीलहरकोदेखतेहुएग्रामीणोंनेसरकारीनिर्देशोंकापालनकरतेहुएशारीरिकदूरीकापालनकरनाशुरूकरदिया।जरूरतपड़नेपरहीजातेहैंगांवसेबाहर:गांवकीसड़केंहमेशासुनसानरहतीहैं,क्योंकियहांकेग्रामीणआवश्यककार्यहोनेपरहीअपनेघरसेबाहरनिकलतेहैं।जरुरतकीचीजेंगांवकीदुकानोंसेखरीदतेहैं।विशेषखरीदारीकरनेकेलिएघरकाकोईएकसदस्यबाजारजाताहैंवहजबघरलौटतेहैतोस्नानकरकेहीघरमेंप्रवेशकरताहै।बाहरीलोगोंकागांवमेंप्रवेशनहींहो,इसकोलेकरग्रामीणलगातारनिगरानीकरतेहैंतथाअनजानलोगोंकेगांवमेंआनेपरउनसेपूछताछकरकोरोनाकेनियमोंकापालनकरवाकरहीगांवमेंप्रवेशकरनेदेतेहैं।गांवकेसभीलोगमास्ककाउपयोगकरतेहैं।कईलोगोंनेवैक्सीनभीलगवालियाहैतथासभीलोगटीकालगवानेकोतैयारहैं।यहांकेलोगोंकामाननाहैकिटीकाकरणफायदेमंदहैऔरसभीकोटीकालगवानाचाहिए।