स्वास्थ्य संबंधी फर्जी टिप्स की सोशल मीडिया पर आई बाढ़, डॉक्टर्स परेशान

नईदिल्लीसोशलमीडियाइनदिनोंएकऐसामाध्यमहोगयाहै,जहांअसलीऔरफर्जीकाफर्ककरनाबड़ामुश्किलहोचलाहै।इसपरफैलनेवालीफर्जीखबरोंकेप्रभावमेंआकरकईबारलोगअपनीसेहततकसेखिलवाड़करबैठतेहैं।दरअसल,सोशलमीडियापरइनदिनोंलोगोंकोअलग-अलगबीमारीसेबचानेकेनुस्खेबताएजातेहैं,जिनकेचक्करमेंलोगआसानीसेआभीजातेहैं।ऐक्ट्रेससोनालीबेंद्रेकोकैंसरहोनेकीखबरजैसेहीमीडियामेंआई,तबसेअबतकसोशलमीडियापरकैंसरसेबचनेकेतरीकोंकीबाढ़आचुकीहै।कैसी-कैसीफर्जीखबरें?बतायाजाताहैकि'ब्रेस्टकैंसरसेबचनाहैतोगर्मीमेंकालेरंगकीब्रामतपहनो,सूरजमेंनिकलतेवक्तअपनीछातीकोपूरेतरीकेसेदुपट्टेसेकवरकरो।'यहसंदेशभीकाफीवायरलहोरहाहैकिकैंसरसेबचनाहैतोशुगरकीमात्राकमकरदें।हालांकि,इसपरडॉक्टरसाफकहतेहैंकिचीनीतोसबकोहीकमखानीचाहिए।इनसंदेशोंकेबारेमेंजबडॉक्टरोंसेबातकीगईतोउन्होंनेइनसबकोफर्जीबताया।वहीं,फर्जीखबरोंपरनजररखनेवालीएकवेबसाइटcheck4spam.comबतातीहैकिमेडिकलसेजुड़ेजितनेसंदेशफॉरवर्डकिएजातेहैं,उनमेंसे25प्रतिशतफर्जीहोतेहैं।क्योंकरलेतेहैंविश्वासलोगइनसंदेशोंपरआसानीसेविश्वासइसलिएकरलेतेहैं,क्योंकिसंदेशकेसाथकिसीमशहूरहॉस्पिटलयाडॉक्टरयासर्वेकानामफर्जीतरीकेसेजोड़दियाजाताहै।मतलबबातउनकेहवालेसेकीजातीहै।साथहीभारतमेंडॉक्टरोंकीकमीभीइसकीबड़ीवजहहै।एलोपैथिकडॉक्टरोंकीकमीइसकीबड़ीवजहमानीजातीहै।सरकारीडेटाकेमुताबिक,भारतमेंएकअरबकीजनसंख्यापरसिर्फ10लाखडॉक्टरहैं।इसवजहसेलोगोंमेंजानकारीकाआभावहैऔरवहफर्जीसंदेशोंकोइधर-उधरबिनासोचे-समझेभेजदेतेहैं।मैक्सहॉस्पिटलकेस्पेशलिस्टडॉसंदीपबुद्धिराजामानतेहैंकियेफर्जीखबरोंइसवक्तउनकेलिएसबसेबड़ीचुनौतीहैं।वहबतातेहैं,'अगरआजडॉक्टरउसउपचारकोगलतबताताहै,जिसेमरीजकेदोस्तयाउसनेखुदसोशलमीडियायाइंटरनेटपरदेखाहै,तोवहउल्टाडॉक्टरकोहीटेढ़ीनिगाहोंसेदेखनेलगताहै।'येफर्जीखबरेंकौनफैलारहाहैऔरइससेउसकाक्याफायदाहोरहाहै?यहअबतकसाफनहींहोसकाहै।