सूखे तालाब, धरती का फटा कलेजा

सुलतानपुर:जिलेभरमेंपानीकोलेकरहाहाकारमचरहाहै।इंसानसेलेकरपशु-पक्षीतकबेहालहैं।नलोंमेंपानीनहींहै,ज्यादातरहैंडपंपखराबपड़ेहैं।नलकूपोंकीदशाभीठीकनहींहै।वहींभीषणतपिशकेचलतेताल-तलैयामेंदरारेंपड़गईंहैं।कुछप्राकृतिकतालाबोंकोछोड़करबाकीसभीकृत्रिमतालाबोंमेंपानीनहींहै।धरतीकाकलेजाफटरहाहै,लेकिनअफसरोंकादिलनहींपसीजरहाहै।

करौदीकलासंसूकेअनुसारक्षेत्रमेंअधिकतरतालाबसूखेपड़े.है।पहाड़पुरकलाकेएकतालाबमेंपानीहै।अखंडनगरसंसूकेअनुसार74ग्रामसभाके206गांवमेंकुल313तालाबहैं,जिनमेंसेमात्र5तालाबमेंपानीहै।चांदासंसूकेमोताबिकपीपीकमैचाब्लॉककेसभीतालाबसूखेपडेहै।तालाबोंमेंपानीनहोनेसेपशु-पक्षियोवजंगलीजानवरोकोपरेशानीहोरहीहै।खण्डविकासअधिकारीरविशंकरपांडेयकहतेहैंकिसभीप्रधानोंवपंचायतसचिवोंकोतालाबमेंपानीभरानेकेलिएनिर्देशितकियागयाहै।दोस्तपुरसंसूकेअनुसारब्लॉककेसभीतालाबसूखेहैं।मछलीपालकोंकेतालाबोंकोछोड़करबाकीमेंपानीनहींहै।मोतिगरपुरसंसूकेअनुसारकहींभीतालाबोंमेंपानीनहींदिखताहै।कूरेभारसंसूकेमुताबिकमनरेगासेबनेतालाबोंमेंपानीनहींहै।सैदखानपुर,पुरखीपुर,माधवपुर,सेयूर,जफरापुर,मुसहरनचनासहितअधिकतरगावोंकेतालाबसूखेपड़ेहैं।भदैंयासंवासूत्रकेअनुसारविकासखंडकेकरीबडेढ़सौतालाबमनरेगासेबनेहैं।सिर्फबेलासदा,शंकरपुर,अभियाकलाकेएक-एकतालाबमेंस्थानीयलोगोंकीसक्रियतासेपानीनजरआरहाहै।भूमिगतजलस्तरलगातारनीचेजारहाहै।हैंडपंपवनलकूपपानीनहींदेपारहेहैं।सेमरीबाजारसंसूकेअनुसारभीषणगर्मीसेताल-तलैयासूखगएहैं।जयसिंहपुरतहसीलक्षेत्रकेअधिकतरतालाबोंमेंधूलउड़रहीहै।