सुनसान हुए सीमांत क्षेत्र के बाजार

संवादसूत्र,मदकोट:गोरी,कालीऔरधौलीनदियोंकेकिनारेस्थितबाजारसुनसानहोचुकेहैं।दिनभरसामानकीबिक्रीनहोनेसेव्यापारीमायूसहैं।व्यापारियोंकोग्रामीणोंकेलौटनेकाइंतजारहै।

धारचूलाऔरमुनस्यारीकेकाली,गोरी,धौलीनदीघाटियोंमेंरहनेवालेग्रामीणमयपरिवारकेउच्चहिमालयमेंकीड़ाजड़ीदोहनकेलिएचलेगएहैं।गांवोंमेंकेवलबुजुर्गऔरशारीरिकरूपसेअक्षमलोगरहचुकेहैं।क्षेत्रमेंलोगोंकेनहींरहनेसेइसकासीधाअसरसीमांतकेबाजारोंमेंपड़चुकाहै।व्यापारीमालनहींबिकनेसेपरेशानहैं।अभीकीड़ाजड़ीदोहनकेलिएएकमाहकासमयहै।इसदौरानसीमांतकेबाजारगुलजारनहींहोसकेंगे।सीमांतकेबाजारधारचूला,तवाघाट,बलुवाकोट,कालिका,ऐलागाड़,घटियाबगड़,कंच्योती,मदकोट,सेराघाट,बंगापानी,बरमकेबाजारपूरीतरहग्रामीणोंपरनिर्भरहैं।धारचूला,बलुवाकोटकोछोड़करअन्यछोटे-छोटेबाजारमेंकेवलग्रामीणग्राहकहोतेहैं।ग्राहकोंकेक्षेत्रमेंनहींरहनेसेदुकानदारोंकीपरेशानीबढ़ीहै।

दुकानदारबतातेहैंकिदिनभरमेंसौसेदोसौरुपयेतककीबिक्रीतकनहींहोरहीहै।ऊपरसेबनियोंकातकादाअलगसेरहताहै।दोतरफामारझेलनीपड़रहीहै।दुकानदारबतातेहैंकिखुदउनकेसामनेघरचलानामुश्किलहोगयाहै।पूरेदिनभरकभीकभारभूलेभटकेकोईग्राहकपहुंचरहाहै।

वहींग्रामीणअभीउच्चहिमालयमेंकीड़ाजड़ीदोहनमेंजुटेहैं।बीचमेंउच्चहिमालयमेंमौसमकेअत्यधिकखराबहोनेसेइसबारकीड़ाजड़ीकादोहनप्रभावितरहाथा।विगततीनचारदिनोंसेउच्चहिमालयमेंमौसममेंहल्कासुधारहुआहै।वहींकीड़ाजड़ीदोहनकेलिएसमयकमरहनेसेग्रामीणपूरीतरहजुटेहैं।परिवारकेकिशोरोंसेलेकरसभीउच्चहिमालयमेंडेराडालेहैं।