सर्विस वोटर पर तामझाम ढेर, लेकिन मतदान करने में फिसड्डी

बक्सर:लोकतंत्रमेंभागीदारीकोमतदानहैजरूरी।चुनावकेदौरानआयोगइसकेलिएबड़े-बड़ेजागरूकताकार्यक्रमचलाताहै।लोगोंसेमतदानकरनेकीअपीलकीजातीहै,लेकिनखुदसरकारीऔरसैन्यकर्मीमतदानकरनेमेंरुचिनहींदिखाते।सर्विसवोटरोंकोमतदानकरतेकेलिएपोस्टलबैलेटउपलब्धकराएजातेहैं,जिससेवेअपनीड्यूटीवालीजगहसेमतदानकरसकें।

बक्सरकेविभिन्नविधानसभाक्षेत्रोंमेंसर्विसवोटरोंकामतदानप्रतिशतबहुतकमरहाहै।जबकि,विधानसभाचुनावोंमेंनजीदीकीमुकाबलेहोतेहैंऔरएक-एकवोटकामहत्वहोताहै।2010केविधानसभाचुनावकेपहलेतोयहस्थितिथीकिपांचप्रतिशतसर्विसवोटरभीअपनेमतदानकाइस्तेमालनहींकरतेथे।आंकड़ेइसकीतस्दीककरतेहैं।वर्ष-2000केचुनावमेंब्रह्मपुरविधानसभाक्षेत्रमें441सर्विसवोटरोंमेंसेकेवलचारनेपोस्टलबैलेटसेमतदानकिया।वहीं,बक्सरमें203मेंकेवल14,डुमरांवमें235में10औरराजपुरमें273मेंकेवल3वोटरहीमतदानकरनेकोइच्छु़कहुए।2005केचुनावमेंभीयहीस्थितिबनीरही।हालांकि,2010केचुनावसेसर्विसवोटरोंकेमतदानप्रतिशतमेंकुछसुधारहुआ।बक्सरमें2010केचुनावमें959सर्विसवोटरोंकोपोस्टलबैलेटउपलब्धकराएगए,जिनमेंसे304मतदाताओंनेअपनेमताधिकारकाप्रयोगकिया।पिछलेविधानसभाचुनावमेंयहआकड़ेमेंकुछऔरबढ़ोत्तरीहुई।जिलासूचनाजनसंपर्कपदाधिकारीकन्हैयाकुमारबतातेहैंकिपहलेकेवलसैन्यकर्मीऔरसुरक्षाबलोंकेजवानहीसर्विसवोटरकीश्रेणीमेंआतेथे।बादमेंचुनावकार्यमेंलगेमतदानकर्मीभीसर्विसवोटरकीश्रेणीमेंआए।मतदानकेविकल्पकादायराभीबढ़ा,जिससेपिछलेकुछचुनावोंसेसर्विसवोटरोंकेमतदानकाप्रतिशतबढ़ाहै।

ईंसर्टआंकड़ोंमेंविधानसभावारसर्विसवोटर/मतदानकरनेवालोंकीसंख्याक्षेत्र20002005(फर.)2005(अक्टू.)20102015ब्रह्मपुर441/41405/531405/441844/552521/476बक्सर203/14374/19578/18959/3041438/477डुमरांव2354/10756/32756/221392/681907/93राजपुर273/3418/16662/21718/221024/692