सरकारी राशन पर निर्भर हैं सलैयाटांड़ के ग्रामीण

गावां:कोरोनाकोहरानेकेलिएसरकारकीओरसेजारीलॉकडाउनकापालनहरकोईकररहाहै।शहरसेलेकरगांवतकलोगअपने-अपनेघरोंमेंदुबकेहुएहैं,लेकिनइसलॉकडाउनमेंसबसेज्यादापरेशानीरोजकमानेखानेवालेमजदूरोंकोहोरहीहै।उनकेसमक्षपरिवारकाभरणपोषणकरनाचुनौतीपूर्णहोगयाहै।गावांप्रखंडअंतर्गतबिरनेपंचायतकेसलैयाटांड़मेंरहनेवालेलोगलॉकडाउनकापालनतोकररहेहैं,लेकिनपेटभरनेकीसमस्याखड़ीहोगईहै।शुक्रवारदोपहर1बजेसलैयाटांड़बस्तीपहुंचनेपरपूरेगांवमेंसन्नाटापसराहुआथा।कहींकोईनजरनहींआरहाथा।एकबुजुर्गव्यक्तिब्रह्मदेवमुसहरआमकेपेड़केपासखड़ेथे।गांवकेलोगकिधरहैं,यहपूछनेपरवहकहतेहैंकिकोईभयंकरबीमारीआईहुईहै।इसकेलिएसरकारनेसभीकोघरमेंरहनेकोकहाहै,इसलिएसभीअपनेअपनेघरमेंहैं।उनसेबातचीतकरतेदेखगांवकेहीपतिराय,शांतिदेवीवउसकेपतिझमनमुसहरबाहरनिकले।

ग्रामीणोंनेबतायाकिवेलोगमजदूरीकरपेटपालतेथे,लेकिनलॉकडाउनकेबादकहींकोईकामनहींमिलरहाहै।राशनकार्डकेजरिएजोचावलमिलताहै,उससेहीपेटपालरहेहैं।उससेपूरेमाहतकदोवक्तकाभोजनभीपूरानहींहोपाताहैक्योंकिहरपरिवारमें8से10सदस्यहैं।बीमारबच्चोंकानहींहोपारहाइलाज:बस्तीकेअंदरजानेपरगांवकीकुछमहिलाएंमिलीं।बैजयंतीदेवीनेबतायाकिबच्चेबीमारहैं।उनकेइलाजकेलिएपैसेनहींहैं,जिसकारणइलाजनहींकरापारहीहै।सोनियादेवी,रेणुदेवीआदिसामनेआईंऔरकहनेलगींकिउनलोगोंकाराशनकार्डभीनहींहै।उनकेपतिपहलेमजदूरीकरकेभरण-पोषणकरतेथे।अबतोवहभीबंदहोगयाहै,जिससेकाफीदिक्कतहोरहीहै।जनकमुसहर,रामूमुसहरआदिनेकहाकिचावलमिलताहै,लेकिनतेल,मसालाआदिकेलिएपैसेनहींहैं।इसकारणपरेशानीकासामनाकरनापड़रहाहै।