सरकारी कालेजों में शिक्षकों की कमी, छात्रों पर पड़ रही है भारी

जागरणसंवाददाता,देहरादून।प्रदेशभरकेराजकीयस्नातकोत्तरमहाविद्यालयोंमेंशिक्षकोंकेरिक्तपदपाठ्यक्रमपूराकरनेमेंआड़ेआररहेहैं।गढ़वालमंडलके54राजकीयस्नातकोत्तरमहाविद्यालयश्रीदेवसुमनविश्वविद्यालयउत्तराखंडसेसंबंद्धहैं,जबकिकुमाऊंमंडलके55स्नातकोत्तरमहाविद्यालयकुमाऊंविश्‍वविद्यालयसेसंबद्धहैं।इन105राजकीयमहाविद्यालयोंमेंतीनसौसेअधिकशिक्षकोंकेपदोंकीकमीहै।हालांकि,प्रदेशसरकारनेअधिकतरकालेजोंमेंशिक्षकोंकीनियुक्तिकरदीहै,लेकिनफिरभीवर्ष2020व2021मेंसेवानिवृत्तशिक्षकोंकेस्थानपरनईभर्तीनहींहुईहै।

यहकालेजचमोली,रुद्रप्रयाग,उत्तरकाशी,पिथौरागढ़,बागेश्वरचंपावतमेंअधिकहैं।जिनमेंसेकुछकालेजनयेहैं।प्रदेशसरकारनेहालहीमेंआठनयेकालेजभीखोलनेकीघोषणाकी।इनकालेजोंमेंदाखिलेभीलिएगएहैं।प्रथमसत्रकीकक्षाएंनजदीककेराजकीयमहाविद्यालयमेंचलेंगी।इनकालेजोंमेंस्नातकस्तरपरछात्र-छात्राओंनेदाखिलेतोलेलिएहैं,लेकिनअभीफिलहालशिक्षकोंकीनियुक्तिनहींहुईहै।ऐसेमेंइनपुरानेकालेजोंमेंछात्रोंकीसंख्याबढ़गईहै।जिससेपहलेसेहीनियुक्तशिक्षकोंपरइसकाभारबढ़रहाहै।पहाड़ीक्षेत्रमेंस्थितकालेजोंमेंछात्रकीसंख्याबेशककमहै,लेकिनयहांशिक्षकोंकीकमीज्यादापरेशानीकासबबबनरहीहै।क्योंकिपहाड़ोंमेंट्यूशनपढ़नेकीव्यवस्थासीमितहै।ऐसेमेंकालेजमेंविज्ञान,कलाएवंवाणिज्यविषयोंकेशिक्षकहोनाजरूरतहै।शहरकीस्थितिकुछअलगहै।यहांकालेजोंमेंयदिशिक्षकनहींहोताहैतोछात्र-छात्राएंआसपासकेट्यूशनसेंटरपरपढ़ाईकरतेहैंऔरअपनासिलेबसपूराकरतेहैं।

उधर,उच्चशिक्षामंत्रीडा.धनसिंहरावतनेकहाकिसरकारनेलगभगसभीराजकीयस्नातकोत्तरमहाविद्यालयमेंरिक्तपदोंकोभरदियाहै।जिसकालेजसेशिक्षकसेवानिवृत्तहोतेहैंवहांभीरिक्तपदकेनिर्देशउच्चशिक्षानिदेशालयकोभेजेजातेहैं।

यहभीपढ़ें:कामनलाएडमिशनटेस्टकेलिएहोजाएंतैयार,यहांमिलेगीआवेदनसेलेकरपरीक्षासेजुड़ीहरजानकारी