सरकारी डाक्टर के अभाव में झोला छाप की चांदी

बस्ती:ग्रामीणक्षेत्रोंकीचिकित्साभगवानभरोसेचलरहीहै।सामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रोंकेप्रभारीसाहबकीजीहुजूरीमेंमस्तहैं।अस्पतालमेंइलाजकोपहुंचनेवालेमरीजडाक्टरऔरदवाकेअभावमेंझोलाछापकेभरोसेकामचलारहेहैं।दुखरागांवकीसोनादेवी15दिनसेबुखारसेपीड़ितहैं।बेहतरइलाजकीआसमेंदसदिनपहलेमरवटियासामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रपहुंचीलेकिनकोईडाक्टरनहींमिला।थकहारकरवहझोलाछापडाक्टरकेपासगईं।हजाररुपयेखर्चहोगएलेकिनबुखारठीकनहींहुआ।मंगलवारकोवहफिरसेडाक्टरकोदिखानेकेलिएसुबह

8बजेहीपहुंचगई।दसबजेवहआयुषडाक्टरसेमिलपाई।यहांहरतरफबदहालीहै।यहांकीस्थितिदेखमरीजआनानहींचाहतेहैं।यहीवजहहैकिदिनभरमेंगिनतीकेमरीजआतेहैं।30से35मरीजहीप्रतिदिनआतेहैंवहभीनिराशाहोकरलौटजातेहैं।

सोमवारकोसुबहसाढ़ेनौबजेतकअस्पतालमेंचिकित्सकनहींआएथे।ओपीडीमेंचिकित्सककीकुर्सीखालीथी।आयुषकक्षकातालातोखुलाथाचिकित्सकनहींथे।वार्डब्वायहरिशचंद्रसिंहबरामदेमेंपर्चीकाटनेकेलिएबैठेथे।आरबीएसकेटीमकीएएनएमपूनमयादवमोबाईलफोनपरव्यस्तथीं।फार्मासिस्टदिलीपकुमारपांडेयतथाराजामानवेंद्रप्रतापसिंहदवावितरणकक्षमेंबैठेथे।बतायागयाकिदवाएंपर्याप्तमात्रमेंउपलब्धहैं।दंतविभाग,होम्योयोपैथतथाएक्सरेकक्षबंदथा।तीन,चारमरीजसुबहसाढ़ेसातबजेसेहीफर्शपरबैठकरडाक्टरकाइंतजारकररहेथे।दसबजेआयुषविभागमेंडा.आशीषनेमरीजोंकाइलाजशुरूकिया।दंतविभागतथाहोम्योपैथविभागकातालाखुला।यहांकेनेत्रसहायकजिलेपरभेजदिएगएहैं।आयुर्वेदचिकित्सकअजयश्रीवास्तवकोचिलवनियाअस्पतालभेजदियागयाहै।प्रसवकीव्यवस्थानर्सकेजिम्मेहै।दोपहरतकएकभीप्रसववटीकाकरणकेमामलेनहींआएथे।इमरजेंसीवार्डकेतीनकमरोंमेंकबाड़औरसंक्रामकवार्डबंदमिला।डा.आशीषशुक्लनेबतायाकिउनकीड्यूटीजिलेपरभीरहतीहैइसवजहसेयहांआनेमेंकभी-कभीदेरहोजातीहै।

पेयजलकीव्यवस्थाबदहाल

अस्पतालआनेवालेमरीजवउनकेतीमारदारोंकोपानीकेलिएतरसजानापड़ताहै।आसपासकोईदुकानभीनहींहैजहांलोगअपनीप्यासबुझासकें।यहांकावाटरकूलरभीखराबहै।

आधेसेअधिककर्मचारीनदारद

अस्पतालकेआधेसेअधिकजिम्मेदारजबसमयसेनहींआएंगेतोमरीजोंकोकैसेबेहतरसुविधाकैसेमिलेगीइसकाअंदाजालगायाजासकताहै।अस्पतालकेप्रभारीडाआफताबरजा,डामेहनाजगनी,लैबटेक्नीशियनआनंदप्रकाशशुक्ला,लिपिकविजयकुमारअस्पतालमेंमौजूदनहींथे।

इमरजेंसीसेवाध्वस्त

अस्पतालकीइमरजेंसीसेवाभीबदहालहै।यहांआनेकेबजाएलोगजिलामुख्यालयअथवाकिसीनिजीअस्पतालमेंजानाबेहतरसमझतेहैं।रात्रिमेंफार्मासिस्टकेभरोसेपूरीव्यवस्थाहोजातीहै।जरूरतपड़नेपरहीडाक्टरआतेहैं।महिलाओंकेप्रसवकाभीयहीहालहै।महिलाचिकित्सकनहोनेसेनर्सकेभरोसेपूरीव्यवस्थाहै।गंभीरमरीजआनेनेरेफरकरदियाजाताहै।28मईकेबादसेयहांएकभीइमरजेंसीकेसनहींआयाहै।

जरूरतनौकीतैनाततीनचिकित्सक

प्रभारीचिकित्सकअधिकारीडाआफताबरजानेबतायाकियहांतीनचिकित्सकतैनातहैं।डा.मेंहनाजगनीएकदिनकेअवकाशपरहै।मेराट्रांसफरसामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रकुदरहाहोगयाहै।यहांडासचिनकीतैनातीहुईहैलेकिनअभीज्वाईननहींकिएहैं।नौडाक्टरोंकापदसृजितहै।जिलामुख्यालयकरीबहोनेकीवजहसेमरीजयहांआनेकेबजाएजिलेपरचलेजातेहैं।प्रतिदिन30-35मरीजोंकाइलाजहोताहै।