Sparrow Day : गौरैया के लिए छतों पर बने घोंसले, रखे गए दाना पानी Aligarh news

अलीगढ़,जेएनएन:पर्यावरणवपक्षीप्रेमियोंकेलिएशनिवारखासदिनहै।हर20मार्चकोविश्वगौरैयादिवसमनायाजाएगा।अपार्टमेंटमेंरहनेवालेलोगटैरिसगार्डनपरपहुंचकरगौरैयाकोअपनेघरपरपधारनेकान्यौतादेंगे।शहरकेतमामलोगोंनेअपनीकोठीवघरोंकीछतोंपरपानीवदानेकाइंतजामकियाहै।बहुतसेलोगोंनेतोचिड़ियोंकेलिएबनावटीघरबनालियाहै।वेहररोजसुबहवशामकोइनकेलिएदाना.पानीडालतेहैं।पक्षीप्रेमियोंकीएकसीटीपरचिड़ियांएकत्रितहोजातीहैं।

विलुप्‍तगौरैयाकोरिझानेकाप्रयास

गौरैयाभारतमेंपायाजानावालासामान्यपक्षीहै,लेकिनशहरीवनगरीयक्षेत्रोंमेंविलुप्तगौरैयाकोरिझानेकेलिएइंतजामकिएजारहेहैं।शहरकेपक्षीप्रेमीगौरैयादिवसमनाएंगे।गौरैयाप्रेमीअंशुमयंकगुप्तानेबतायाहैकिरायलसोसाइटीआफलंदनकी2018कीरिपोर्टकेअनुसार,मनुष्याेंऔरगौरैयाकेबीच11,000सालपुरानासंबंधहै।अध्ययनमेंकहागयाहैकितीनअलग-अलगप्रजातियांकुत्ताें,घरेलूगौरैयाआैरमनुष्याेंमेंकृषिकेमाध्यमसेसमानअनुकूलनमाहौलशुरूहुआथा।रॉयलसोसाइटीफॉरदप्रोटेक्शनआफबल्र्डसकेएकहालियासर्वेक्षणकेअनुसार,पिछले40वर्षोमेंअन्यपक्षियाेंकीसंख्यामेंवृद्धिहुईहै,लेकिनभारतमेंगौरैयाकीसंख्यामें60फीसदकीकमीआईहै।दुनियाभरमेंगौरैयाकी26प्रजातियांहैं,जबकिउनमेंसेपांचभारतमेंपाईजातीहैं।वर्ष2015कीपक्षीजनगणनाकेअनुसार,लखनऊमेंकेवल5692आैरपंजाबकेकुछक्षेत्राेंमेंलगभग775गौरैयाथी।वर्ष2017में,तिरुवनंतपुरममेंकेवल29गौरैयाकीपहचानकीगईथी।भारतीयकृषिअनुसंधानपरिषदकेएकसर्वेक्षणमेंपायागयाकिआंध्रप्रदेशमेंइसकीसंख्यामें80फीसदकीकमीआईहै।केरल,गुजरातऔरराजस्थानजैसेराज्याेंमें20फीसदतककीगिरावटदेखीगईहै।

गौरेयासंरक्षणहेतुघरकीछतपरदानेपानीकीव्‍यवस्‍था

विश्वगौरैयादिवसपहलीबार2010मेंनेचरफारएवरएसोसायटीकेअध्यक्षमोहम्मददिलावरकेप्रयासाेंसेमनायागयाथा।तबसे,यहदिवसप्रत्येकवर्ष20मार्चकोमनायाजाताहै।इसकाउद्देश्यगौरैयाकेसंरक्षणकेप्रतिलोगाेंमेंजागरूकतालानाहै।पर्यावरणसंतुलनमेंगौरैयामहत्वपूर्णभूमिकानिभातीहै।गौरैयाअपनेबच्चाेंकोअल्फाऔरकैटवॉर्मनामककीड़ेखिलातीहै।येकीड़ेफसलाेंकेलिएबेहदखतरनाकहोतेहैं।वेफसलाेंकीपत्तियाेंकोमारकरनष्टकरदेतेहैं.इसकेअलावा,गौरैयामानसूनकेमौसममेंदिखाईदेनेवालेकीड़ेभीखातीहै।सासनीगेटनिवासीअंशुमंयकगुप्तानेगौरेयासंरक्षणहेतुघरकीछतपरपक्षियाेंकेलियेपानीएवंदानेकीव्यवस्थाकीहै।काठकेघौंसलेलगायेहैं।उनकेघरपरप्रतिदिनदर्जनाेंकीसंख्यामेंगौरेयाछतपरआतीहैं,पानीपीतींहैं,दानाखातीहै।पानीमेंअपनेपंखाेंकोपानीमेंडुबोकरअटखेलियाखेलतीअच्छीलगतीहैं।