सोनडीहा में नदी पार फंसे रहे किसान, परिजन करते रहे इंतजार

सगमा:प्रखंडकेसोनडीहाएकलौताएकऐसापंचायतहै,जिसकीआबादीमालियानदीइसपारहैतोखेतीबारीनदीकेउसपारमेंहोतीहै।नतीजाहैकिबरसातकेदिनोंमेंनदीजबउफानपरहोतीहैलोगखेतीकरनेकेलिएकिसीप्रकारनदीपारजातेहैंऔरखेतीकाकामकरशामकोवापसलौटतेहैं।नदीमेंबाढ़आनेसेपरघंटोंनदीकाउफानकमहोनेकाइंतजारकरनापड़ताहै।नदीकाबहावतेजहोनेपरसारीरातनदीकेउसीपारगुजारनेकोविवशहोतेहैंलोग।कुछइसीतरहकानजारारविवारकोदेखनेकोमिलाजबखेतीकरलौटरहेकिसानोंकेपरिवाररातभरनदीमेंपानीकमहोनेकाइंतजारकरतेरहे।स्थितयहथीकीपरिजननदीकेइसपारपानीकमहोनेकीबाटजोहरहेहैंतोउसपारउनकेपरिवारकेलोगनदीमेंपानीकमहानेकेइंतजारमेंरातगुजारनेकेलिएविवशथे।सोनडीहाकेग्रामीणलंबेसमयसेनदीपरपुलकीमांगकोलेकरविधायकसेसांसदतकगुहारलगाचुकेहैं।मगरउनकीमांगअभीतकअधूरीहै।सोनडीहापंचायतकीमुखियासरितादेवी,दशरथबैठा,विशुनदेवयादव,गोरखयादव,संतोषयादव,कमलेशयादव,राजूगुप्ता,विजयविश्वकर्मानेबतायाकिइसनदीकेकारणकभीभीबड़ाहादसाहोसकताहै।इन्होंनेकहाकिसबसेअधिकपरेशानीयहांकेछात्र-छात्राओंकोउठानापड़तीहै।क्योंकिस्कूलनदीकेउसपारमेंअवस्थितहै।नदीमेंअधिकपानीवतेजबहावरहनेपरबच्चेमध्यविद्यालयमेंपढ़नेनहींजापातेहैं।