:संपादक, यह जाने-माने विग्यान लेखक पल्लव बाग्ला द्वारा पीटीआई भाषा के लिए लिखा गया साप्ताहिक स्तंभ है। कृपया इसे प्रकाशित करते समय पीटीआई भाषा और लेखक को उचित श्रेय दें।:

डेंगूकेटीकेलानेमेंभारतमेंचलरहासंघर्ष:पल्लवबाग्ला:नयीदिल्ली,नौअक्तूबर:भाषा:मरीजकोतोड़कररखदेनेवालाडेंगूएकऐसीरोगहैजोअपनीचपेटमेंआनेवालेलोगोंकीजानभीलेलेताहैऔरइसकाकोईभीइलाजग्यातनहींहै।इसभयावहबीमारीकेखिलाफदोटीके-एकविदेशीऔरएकभारतीय-नियामकमंजूरियोंकाइंतजारकररहेहैं।वहींएकबड़ीदवाकंपनीबड़ेस्तरकेचिकित्सीयपरीक्षणकीमांगकररहीहैताकिआपातस्थितिकोदेखतेहुएइसबीमारीकेटीकेकोजल्दसेजल्दलेकरआयाजासके।लाखोंलोगोंकेपीडि़तहोनेकेबावजूदभारतमेंखोजागयाडेंगूकासंभावितटीकादिल्लीकीप्रयोगशालाकीअलमारियोंमेंधूलफांकरहाहै।तोक्याऐसेमेंभारतकोसख्तरूखअख्तियारनहींकरलेनाचाहिए?डेंगूकीसमस्याकीव्यापकताकोलेकरअक्सरअधिकारीशुतुरमुर्गसरीखाबर्तावकरतेहैं।वर्ष2014मेंसरकारकेराष्ट्रीयस्वास्थ्यएवंपरिवारकल्याणसंस्थानद्वाराकराएगएएकमहत्वपूर्णअध्ययनमेंपायागयाकिभारतमेंवर्ष2006-12केबीचवार्षिकतौरपरडेंगूकेऔसतन57,78,406मामलेरहेहोंगेजोप्रतिवर्षदर्जहोनेवालेमामलोंसे282गुनाहै।अध्ययनमेंकहागयाकिभारतमेंवार्षिकतौरपरचिकित्सीयआधारपरसामनेआनेवालेडेंगूकेमामलोंकामहज0.35प्रतिशतहिस्साहीराष्ट्रीयमच्छरजनितरोगनियंत्रणकार्यक्रमकेतहतआताहै।वर्ष2013में,सातदेशोंके18शोधकर्ताओंकेएकदलद्वाराकियागयाएकआकलनब्रितानीजर्नलनेचरमेंछपाथा।इसमेंकहागयाथाकिदुनियाभरमेंहोनेवालेडेंगूसंक्रमणमें2.2-4.4करोड़मामलेअकेलेभारतकेहोतेहैं।इसकायहअर्थहुआकिमंत्रालयकाआकलनभी1000गुनाकमहोसकताहै।भारतीयआयुर्विग्यानअनुसंधानपरिषदकीमहानिदेशकडॉसौम्यास्वामीनाथननेकहा,सरकारीआंकड़ेतोएकअंशमात्रहैं।उन्होंनेकहाकिकोईभीव्यक्तिडेंगूकेअसलीबोझकेबारेमेंनहींजानता।सच्चाई282गुनाज्यादाऔर1000गुनाज्यादाआकलनकेबीचमेंकहींहै।इसवजहसेदेशकोडेंगूकेखिलाफकामकरनेवालेटीकेकीभारीजरूरतहै।