समस्याओं के मकड़जाल में कराह रहा गौरीपट्टी गांव

सुपौल।शहरकीतरहगांवकेलोगभीखुशहालहोऔरउसेभीजीवनजीनेकेलिएअधिकसेअधिकसुविधाएंमिलेइसकेलिएसरकारीस्तरसेनित्यनए-नएप्रयासकिएजातेहैं।इसकेतहतगांवमेंजलापूर्तियोजना,सड़कनिर्माण,स्कूलमेंबेहतरशिक्षादेनेहेतुशिक्षकोंकीतैनातीतथापलायनरोकनेकेलिएसरकारीस्तरसेकार्यआदिव्यवस्थाएंकीजातीरहीहै।लेकिनसरायगढ़-भपटियाहीप्रखंडमुख्यालयसेमहज3किलोमीटरउत्तरअवस्थितमहादलितवर्गकेलोगोंकागांवगौरीपट्टीऐसेसारीसुविधाओंसेअभीभीदूरहै।कोसीकेकछारपरबसेएकहजारसेअधिककीआबादीकेइसगांवमेंअबतकशुद्धपेयजलउपलब्धनहींहोपायाहैजोयहांकीमुख्यसमस्याहै।3वर्षपूर्वइसगांवमेंएकमिनीजलापूर्तियोजनास्थापितकीगई।योजनासेजैसेहीपानीनिकलनाशुरूहुआकिलोगोंकीचिताएंऔरबढ़गई।गांवमेंलोगोंकेघरलगेचापाकलसेकहींज्यादाखराबपानीजलापूर्तियोजनासेनिकलरहाथा।इसेदेखलोगोंनेविरोधकास्वरउठायातोइसजलापूर्तियोजनाकोसंचालितकरनेवालेलोगहीपरदेकेपीछेचलेगए।तबसेलेकरअबतकउसगांवमेंकोईभीसरकारीअधिकारीआजतकजलापूर्तियोजनाकोदेखनेनहींपहुंचेहैं।आयरनयुक्तपानीपीनेकेकारणगांवकेलोगअक्सरबीमारहुआकरतेहैं।गांवमेंअधिकसमस्याएंमहिलाओंकोहोतीहैजोगांवमेंहीरहकरकिसीनकिसीरोजगारसेलगीरहतीहै।इनमहिलाओंकेलिएशुद्धपेयजलउपलब्धनहींहोनेकेकारणबार-बारपरेशानीदिखाईदेतीहै।

गांवमेंनहींहैकोईअस्पताल

गौरीपट्टीगांवमेंकोईअस्पतालभीनहींहै,जहांलोगस्वास्थ्यलाभआसानीसेलेसकें।आपातकालमेंगांवकेलोगोंकोभपटियाहीसहितअन्यअस्पतालोंमेंजानापड़ताहै।गांवकेबच्चोंकोसमयसेटीकेनहींनहींदिएजातेहैंजिसकारणउसेकईप्रकारकेरोगकाशिकारहोनापड़ताहै।

चटाईउद्योगकोनहींमिलरहाबढ़ावा

गौरीपट्टीगांवमेंलंबेसमयसेलोगपटेरसेचटाईबनाकरअपनेपरिवारकागुजाराकरतेरहेहैं।इसकेलिएकच्चेमालकेरूपमेंजहांपटेरऔररस्सीकीजरूरतहोतीहै।वहींइसरोजगारकोआगेबढ़ानेकेलिएलोगोंकोधनकीभीजरूरतहोतीहै।गांवकेलोगोंकेबार-बारकीमांगकेबादभीसरकारीस्तरसेअभीतकचटाईउद्योगकोनतोमान्यतादीगईऔरनहीलोगोंकोसहायतामिलरहीहै।गौरीपट्टीगांवकेअधिकांशपुरुषवर्षकेकईमाहपरिवारकेगुजारेकेलिएबाहरपलायनकरजातेहैं।गांवकीकईमहिलाओंकाकहनाहैकियदिचटाईनिर्माणकेलिएउनसबोंकोसरकारीस्तरसेसहायताराशिमिलेतोवहसबइसेबड़ारूपदेसकतीहैऔरउससेपूरेपरिवारकासही-सहीभरणपोषणभीहोगा।लेकिनलोगोंकोरोजगारसेजोड़नेकावादाकरनेवालेअधिकारीऔरसरकारउनलोगोंतकनहींपहुंचतेहैंऔरनाहीकभीउधरध्यानदेतेहैं।गौरीपट्टीगांवमेंसड़कतोहैलेकिनशिक्षाकीव्यवस्थाबिल्कुलहीजर्जरहै।

स्कूलरहनेकेबादभीपढ़नेकेप्रतिनहींहैजागरूकता

गांवमेंमध्यविद्यालयरहनेकेबादभीबच्चेशिक्षासेदूरदिखाईदेतेहैं।परिवारकेगुजारेकेलिएचटाईनिर्माणकार्यमेंहाथबंटानेवालेबच्चेस्कूलकेसमयभीअपनासमयउसीमेंबितादेतेजिसकारणवहपढ़नहींपातेहैं।कहतेहैंकिमहादलितबस्तीकेलोगोंकोगरीबीनेइसकदरसेघेररखाहैकिचाहकरभीबच्चेकोसही-सहीस्कूलनहींभेजपाते।विद्यालयकेशिक्षकमहजकुछहीबच्चोंकोलेकरबैठेदिखाईदेतेहैं।

अधूरापड़ाहैसामुदायिकभवन

गौरीपट्टीगांवमेंएकसामुदायिकभवनबनायागयाजोअबतकपूरानहींहुआऔरइसकारणवहांलोगबैठकरकोईयोजनाभीनहींबनापातेहैं।गांवकेकईलोगोंकीमानेतोसामुदायिकभवनबनानेवालेअभिकर्तानेउसकीराशिकोजहां-तहांखपतकरदीजिसकारणवहअबतकबेहालबनाहै।

बेकारपड़ाहैआंगनबाड़ीकेंद्रभवन

गांवमेंआंगनवाड़ीकेंद्रभवनबनायागया,लेकिनउसकाउपयोगनहींहोरहाहै।केंद्रकीसेविकाएकव्यक्तिकेदरवाजेपरबच्चोंकोपढ़ानेकाकामकरतीहैजबकिनवनिर्मितभवनपरधीरे-धीरेलोगोंकाकब्जाबढ़ताजारहाहै।आईसीडीएसकेअधिकारीसबकुछदेखकरभीअंजानबनेहुएहैं।

कोसीनदीसेबढ़ारहताहैलोगोंकोखतरा

कोसीनदीकेपूर्वीकछारपरपूर्वीतटबंधकेकिनारेअवस्थितगौरीपट्टीकेलोगबरसातकामौसमआतेहीसहमउठतेहैं।गांवकेपश्चिमसेहोकरबनेएकगाइडबांधकेजर्जरहोनेसेबाढ़केसमयपानीगांवमेंप्रवेशकरजाताहैजिसकारणलोगोंमेंअफरा-तफरीमचजातीहै।लोगबतातेहैंकिगाईडबांधमरम्मततथाऊंचीकरणकेनामपरप्रतिवर्षझांसादियाजाताहै।चुनावकासमयआनेपरकईनेताउसगाईडबांधकाउंचीकरणकरलोगोंकोसुरक्षितकरनेकावादातोकरतेहैंलेकिनचुनावबादलौटकरकोईनहींआतेहैं।हालातयहहोताहैकिघरोंमेंपानीभरतेहीलोगतटबंधऊपरपहुंचजातेहैंऔरफिरतीनमाहतकउसीपरजीवनबितानेकोविवशरहतेहैं।इसदौरानलोगोंकीगाढ़ीकमाईभीपानीमेंबहजायाकरतीहै।घरमेंरखाअनाजकेपानीमेंडूबनेसेलोगोंकोवर्षभरपेटचलानेकीसमस्याबढ़जातीहै।महादलितलोगोंकेइसबस्तीमेंसरकारकेअधिकारीतथाजनप्रतिनिधिविकासकाढिढोरातोपीटतेहैंलेकिननीचेतकवहनहींपहुंचपाताहै।गांवमेंकईलोगविभिन्नप्रकारकेपेंशनलाभसेवंचितहैं।खुलेमेंशौचकरतेहैंलोग

स्वच्छभारतमिशनकेतहतगांवमेंकईलोगोंकेयहांशौचालयनिर्माणतोकरायागयालेकिनअधिकांशपरिवारकेलोगउसकाउपयोगनहींकरतेहैं।कईघरोंमेंअभीभीशौचालयनिर्माणकरानाबाकीहैऔरइसकारणलोगखुलेमेंशौचकरतेहैं।गांवमेंसाफ-सफाईकेप्रतिजागरूककरनेकेलिएकोईकार्यक्रमनहींचलायाजाताजिससेअधिकतरजगहोंपरगंदगीदिखाईदेतीहै।