सिमरनजीत झुके पैरों पर, मां ने लगाया गले

पीलीभीत,जेएएन:पितातोलखनऊसेहीसिमरनजीतसिंहकेसाथरहेलेकिनघरमेंमांकोसुबहसेहीबेटेकेआनेकाबेसब्रीसेइंतजाररहा।यहइंतजारकाफीलंबाखिचा।कारणयहकिजिलेकीसीमामेंप्रवेशकरनेकेसाथहीइसपदकवीरकेस्वागत-अभिनंदनकाऐसासिलसिलाचलाकिघरपहुंचते-पहुंचतेलगभगशामहोगई।

शुक्रवारकोशामलगभगचारबजेटोक्योओलिंपिकमेंपुरुषहाकीटीमकायहहीरोअपनेघरपहुंचा।वहांपहलेसेहीतमामरिश्तेदारएवंअन्यपरिचितोंकाजमावड़ारहा।जैसेहीसिमरनजीतकासामनाअपनीमांमंजीतकौरसेहोताहैतोवहआशीर्वादपानेकेलिएउनकेपैरोंकीओरझुकजातेहैं।इसपरमांउन्हेंबांहोंमेंभरकरगलेसेलगालेतीहैं।बड़ाभावुकक्षणहै।लंबेसमयबादमां-बेटाकामिलनहुआतोकुछदेरकेलिएदोनोंमेंभावनाओंकाज्वारमेंउमड़आया।इसीदरम्यानस्वजनऔररिश्तेदारोंनेसिमरनजीतकोघेरलिया।बहनोंप्रभजोतकौर,नवनीतकौरतथाअन्यस्वजननेसिमरनजीतपरफूलोंकीवर्षाकरकेअपनीखुशीप्रकटकी।इससेपहलेमझोलामेंस्वागतकार्यक्रमचला।सबसेपहलेनगरपंचायतचेयरमैनडा.मुन्नेखांकेघरस्वागतहुआ।इसकेबादव्यापारमंडलकेनगरअध्यक्षदेवेंद्रसिंहरिकू,अमृतपालसोनूसमेतअन्यव्यापारियोंनेफूलमालाएंपहनाकरसिमरनजीतकास्वागतकिया।गुरुद्वाराकलगीधरमेंसिमरनजीतनेश्रीगुरुग्रंथसाहिबकेसमक्षमत्थाटेका।मुख्यग्रंथीबाबादलजीतसिंहनेअरदासकी।प्रबंधकबलविदरसिंहबिल्लूनेसिमरनजीतकोसरोपाभेंटकिया।गांवपहुंचतेहीसिमरनजीतघरमेंप्रवेशकरनेसेपहलेगुरुद्वारामेंपहुंचेऔरमत्थाटेका।गांवकामाहौलऐसालगतारहा,जैसेस्वागतसम्माननहींबल्किकोईभव्यशादीसमारोहहोरहाहो।सिमरनजीतकेसाथसेल्फीलेनेकेलिएयुवाओंकीभीड़लगीरही।उन्होंनेभीइसमौकेपरकिसीकोनिराशनहींकिया।गांवमेंइतनीलग्जरीगाड़ियांपहलेकभीनहींदेखीगईं।वाहनोंकेकारणगांवमेंजामलगारहा।इनसेट

जज्बाऔरजुनूनसेआताहैखेलमेंनिखार

शहरमेंसम्मानकार्यक्रमोंकेबीचहीसिमरनजीतसिंहनेपत्रकारोंसेवार्ताकी।इसदौरानउन्होंनेकहाकिखेलमेंनिखारलानेकेलिएखिलाड़ीकेअंदरजज्बाऔरजुनूनपैदाहोनाचाहिए।उसीसेआगेबढ़नेकीललकपैदाहोतीहै।एकसवालकेजवाबमेंकहाकिप्रत्येकखेलकेलिएअलग-अलगजगहेंहोतीहैं।उन्हेंहाकीखेलनेकाजुनूनरहा,इसीकारणपंजाबजाकरवहांहाकीकातकनीकीप्रशिक्षणप्राप्तकिया।बोले-छोटीयाबड़ीजगहसेकोईफर्कनहींपड़ता।छोटीजगहोंपरभीखिलाड़ीअच्छाप्रदर्शनकररहेहैं।सरकारभीखेलोंकोबढ़ावादेनेकाप्रयासकररहीहै।