सिक्कों के नहीं लिए जाने से बढ़ रहा आक्रोश

शिवहर:इनदिनोंसिक्कोंकेबाजारमेंनहींलिएजानेसेलोगोंमेंआक्रोशझलकनेलगाहै।लोगोंमेंइसबातकीप्रतिक्रियाहैकिआखिरबाजारमेंसिक्केसरकारउताररहीहैतोआखिरहमउसेकैसेनहींलेंऔरकैसेनहींचलाएं।नोटबंदीकेबादआखिरसिक्कोंकीभरमारकैसेहोगईहै।वैसेमेंतबबैंकवबड़ेव्यवसायीइससिक्कोंकोलेनेसेक्योंकतरारहेहैं।प्रशासनइसमामलेमेंठोसकोईकदमउठाए।

-डीएमवबैंकअधिकारीलेंगंभीरतासे:अजबलाल

पूर्वपार्षदअजबलालचौधरीनेकहाकिसिक्कोंकेलेनेसेबड़ेव्यवसायियोंकेइंकारकरनेसेजिलेकेछोटेव्यापारियोंकोपरेशानीकासामनाकरनापड़रहाहै।वहींइसकाखामियाजाआमलोगभीभुगतरहेहैं।उन्होंनेजिलाधिकारीवबैंकअधिकारियोंसेआग्रहकियाहैकिमामलेकासंज्ञानलेतेहुएइसकासमाधानकरानेकीकृपाकरें।

-हमलोगहोरहेहैंपरेशान:लक्ष्मीपटेल

पानदुकानदारलक्ष्मीपटेलबतातेहैंकिकोईभीथोकव्यापारीसेसामानखरीदकरनेपरवेसिक्कानहींलेरहेहैं।जिससेहमेंअपनेदुकानकेलिएसामानखरीदनेमेंपरेशानीउठानीपड़रहीहै।जबकिग्राहकभीपांचवदसकीखरीदपरहमेसिक्काहींदेतेहैं।वैसेमेंहमक्याकरेंऔरक्यानकरेंयहसोचनेकोविवशहोरहेहैं।

-बैंकभीनहींलेरहासौपचासरुपयेकेसिक्के:भाग्यनारायण

ठंडावपेपरव्यवसाईकहतेहैंकिकिकंपनीकोरुपयेभेजनेकेलिएअगरहजारपांचसौरुपयेकेसिक्केभीसाथमेंजमाकराएजारहेहैं,तोबैंकभीलेनेसेइंकारकरदेरहेहैं।वहींलोगहमेंनोटकेबदलेसिक्केहींथमातेहैं।वैसेमेंअगरसिक्कानहींलेंयानहींलेंयहसरकारवबैंकनिर्धारितकरे।ताकिहमइससमस्यासेमुक्तहोसके।

-रोगियोंसेसिक्कालेनाहमारीमजबूरी:अखिलेश

दवाव्यवसायीअखिलेशकुमारकहतेहैंकिहमेंतोरोगियोंवउनकेपरिजनसेदवाकीखरीदकरतेसमयदसवपांचकेसिक्केलेनेकीमजबूरीबनरहीहै।लेकिन,बड़ेकारोबारीहमसेअधिकमात्रामेंसिक्केलेनेसेइंकारकररहेहैं।जिससेकाफीपरेशानीबढ़गईहै।वहींअगरहमसिक्केनहींलेतेहैंतोबेवजहग्राहकोंसेतू-तू-मै-मैहोनेकीनौबतआपड़तीहै।

सिक्केकेलेनदेनपरबैंकमेंकोईरोकनहींहै।सिक्कालेनाअनिवार्यहै।किसीतरहकेअफवाहसेबचे।अगरबैंककर्मीवव्यवसायीसिक्कानहींलेतेहैंतोमेरेपासइसकीशिकायतकरें।