शुद्ध पानी के नाम पर फल-फूल रहा कैंपर बिजनेस

जागरणसंवाददाता,करनाल:जिलेमेंबड़ेस्तरपरकैंपरकाव्यापारफल-फूलरहाहै।इससेसप्लाईहोनेवालेपानीकीगुणवत्ताक्याहै।यहजाननेकाकभीप्रयासनहींकियाजाता।यूंतोस्वास्थ्यविभागकीतरफसेजगह-जगहसेपानीकेसैंपललिएजातेहैंलेकिनजहांसेबड़ेस्तरपरलोगोंतकपानीपहुंचरहाहै,उसतरफकिसीकाध्याननहींहै।

करीबतीनसालपहलेकैंपरोंसेपानीकेसैंपललिएगएथेतोयहफेलपाएगएथे।स्वास्थ्यविभागकीटीमनेडीजीहेल्थकीअनुमतिसेइनफैक्ट्रियोंकोसीलकियागयाथा।उसकेबादविभागनेकभीपीछेमुड़करनहींदेखा।

50सेज्यादाकैंपरसंचालकरोजाना7.20लाखलीटरभूजलनिकालतेहैं

करनालडार्कजोनमेंहै।वाटरलेवल16.05मीटरपहुंचगयाहै।यहांकिसानयदिनलकूपलगाताहैतोउसेहाइड्रोलोजिस्टडिपार्टमेंटसेइजाजतलेनीपड़तीहै।इधर,शहरमें50सेज्यादाकैंपरसंचालकहररोज7.20लाखलीटरभूजलहररोजनिकालरहेहैं।जिसमेंसे4.80लाखलीटरपानीप्रतिदिनबर्बादहोरहाहै।क्योंकिएककैंपरपानीकोसाफकरनेमेंतीनसेलेकरपांचलीटरपानीबेकारजाताहै।इतनाहीएककैंपरकीसाफ-सफाईमेंखर्चकरदियाजाताहै।इसकेबावजूदप्रशासनकाइसओरध्याननहींहै।सभीकैंपरसंचालकोंनेशहरकेअंदरसमर्सिबलपंपलगारखेहैं।

जागरणसंवाददातानेशहरमेंचलरहेकैंपरसंचालकोंकेठिकानोंपरजाकरदेखातोपायाकिमजदूरखुलेहाथऔरदूषितमाहौलमेंपानीकैंपरमेंभरतेहैं।साइडमेंभारीगंदगीजमाहै।जिसपाइपसेपानीभराजाताहैउसेजमीनपरहीगिरादियाजाताहै।जुगाड़केफिल्टरलगेहैं।इसमेयहकतईपतानहींचलताकिपानीकितनासाफहुआऔरइसमेंकितनीगंदगीरहगई।

30अप्रैल2015मेंहुआथाइन्फोरसमेंटकमेटीकागठन

करनालक्षेत्रकेडार्कजोनमेंहोनेकेकारणगिरतेभूजलस्तरकोरोकनेकेलिएजिलास्तरपर30अप्रैल2015मेंइन्फोर्समेंटकमेटीकागठनकियागयाथा।जिसकाचेयरमैनएसडीएमकरनालकोबनायागयाहै।इसकेअलावाएक्जीक्यूटिवइंजीनियरहुडा,पब्लिकहेल्थ,पीडब्ल्यूडी,बिजलीवभूगर्भविभागसमेतआठकोसदस्यबनायागयाहै।जोशिकायतआनेपरनिरीक्षणकरतीहै।

पानीकीजांचकराईजाएगी

सिविलसर्जनडॉ.अश्विनीकुमारनेबतायाकियदिशिकायतमिलतीहैतोसैंपलभरलिएजातेहैं।अभीतोयहभीसंभवनहींहै,क्योंकिचंडीगढ़मेंलैबमेंकामचलरहाहै।हमाराप्रयासरहताहैकिपानीकीगुणवत्ताकीजांचहरमुख्यजगहपरकराईजाए।