Shravan 2021: भगवान शिव को प्रिय है त्रिपुंड, जानिये सावन में इसे धारण का लाभ

Sawan2021AurTripund:सावनमाहप्रारंभहोचुकाहै।सावनमेंभगवानशिवकीपूजापूरेधूमधामसेकीजातीहै।भगवानशिवकोप्रसन्नकरनेकेलिएसावनमहीनासबसेश्रेष्ठऔरउत्तममानाजाताहै।सावनकेसभीसोमवारकोविशेषरूपसेशिवअराधनाकीजातीहै।शिवकोप्रसन्नकरनेकेलिएकईसारेउपायकियेजातेहैं।सावनमेंशिवभक्तमाथेअर्थातललाटपरभस्मयाचंदनसेतीनरेखाएंबनातेहैं,जिसेहमत्रिपुंडकहतेहैं।त्रिपुंडकोलगातेवक्ततीनअंगुलियोंकाप्रयोगकियाजाताहै।आइयेजानतेहैंकित्रिपुंडलगानेकेलाभऔरतरीकेक्याक्याहैं।

त्रिपुंडक्याहै

ललाटपरभस्मसेबनीतीनरेखाएंबनाईजातीहैजिसेत्रिपुंडकहतेहैं।इसेमध्यमा,अनामिकाऔरअंगुठेसेरेखाबनाईजातीहै।सावनमेंत्रिपुंडलगानेसेव्यक्तिकेमस्तिष्ककोशीतलतामिलतीहै।

त्रिपुंडमेंदेवताओंकावास

ललाटपरलगेत्रिपुंडकीतीनोंरेखाओंमेंनौ-नौदेवतावासकरतेहैं।त्रिपुंडकीपहलीरेखामेंनौदेवताओंअकार,धर्म,रजोगुण,गार्हपत्यअग्नि,पृथ्वी,ऋग्वेद,क्रियाशक्ति,प्रात:स्वन,महादेवजीवासकरतेहैं।इसीतरहत्रिपुंडकीदूसरीरेखामेंनौदेवताओंऊंकार,दक्षिणाग्नि,मध्यंदिनसवन,इच्छाशक्ति,आकाश,सत्वगुण,यजुर्वेद,अंतरात्मा,महेश्वरजीकावासहै।अंतमेंत्रिपुंडकीतीसरीरेखामेंनौदेवताओंमकार,आहवनीयअग्नि,परमात्मा,तमोगुण,द्युलोक,ज्ञानशक्ति,सामवेद,तृतीयसवनतथाशिवहैं।

त्रिपुंडलगानेकेलाभ

सावनमेंत्रिपुंडकाव‍िशेषमहत्‍वमानागयाहै।मान्‍यताकेअनुसारलगानेवालेकेमनमेंक‍िसीभीतरहकेबुरेख्‍यालनहींआतेहैं।इसेधारणकरनेसेनकारात्‍मकऊर्जाभीदूरहोतीहैऔरमनमेंसात्विकताकाप्रवाहहोताहै।सावनमेंत्रिपुंडलगानेसेसभीमनोकामनाएंपूर्णहोजातीहैं।

'इसलेखमेंनिहितकिसीभीजानकारी/सामग्री/गणनाकीसटीकतायाविश्वसनीयताकीगारंटीनहींहै।विभिन्नमाध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथोंसेसंग्रहितकरयेजानकारियांआपतकपहुंचाईगईहैं।हमाराउद्देश्यमहजसूचनापहुंचानाहै,इसकेउपयोगकर्ताइसेमहजसूचनासमझकरहीलें।इसकेअतिरिक्त,इसकेकिसीभीउपयोगकीजिम्मेदारीस्वयंउपयोगकर्ताकीहीरहेगी।'