शहर में गूंजने लगी कोयल की मधुर आवाज, हवा हुई स्वच्छ, नदियों का पानी हुआ निर्मल

जागरणसंवाददाता,यमुनानगर:

शहरमेंअरसेबादलोगोंनेकोयलकीमधुरआवाजसुनी।सड़कसेलेकरआसमानतककहींधुंआनहीं।नदियोंकापानीभीइतनासाफकीउसमेंअपनाप्रतिबिबदेखसकतेहैं।डरकेकारणनदीकेबीचमेंरहनेवालीमछलियांअबबेखौफहोकरकिनारेतकआरहीहैं।येसबसंभवहुआलॉकडाउनसे।30दिनकेलॉकडाउननेफिजाहीबदलकररखदी।गतमाहतकलोगताजीहवालेनेकेलिएघरोंसेनिकलकरपार्कोंमेंजातेथे।परंतुअबघरबैठेहीसाफवस्वच्छहवामिलरहीहै।एयरक्वालिटीइंडेक्स(एक्यूआइ)जोलॉकडाउनसेपहले350माइक्रोग्रामप्रतिघनमीटरसेअधिकरहताथावोअब90से100माइक्रोग्रामतकसिमटकररहगयाहै।मार्चमें40परआगयाथाएक्यूआइ:

एक्यूआइमार्चमाहमें40माइक्रोग्रामपरपहुंचगयाथा।19मार्चकोएक्यूआइ147,20मार्चको186व21को153माइक्रोमीटरथा।23मार्चकोलॉकडाउनकापहलाथा।इसीदिनएक्यूआइघटकर73परआगयाथा।इसकेबादइसमेंलगातारगिरावटदर्जकीगई।26मार्चको55,27मार्चको51,28मार्चको40,29मार्चको57व30मार्चको53माइक्रोग्रामथा।इसमाह2से12अप्रैलतक59से92माइक्रोग्रामतकरहा।लॉकडाउनमेंढीलमिलतेहीहोनेलगीबढ़ोतरी:

तीन-चारदिनसेलॉकडाउनमेंढीलमिलनेलगीहै।सड़कोंपरफिरसेपेट्रोलवडीजलसेचलनेवालेवाहनसरपटदौड़नेलगेहैं।जिसकारणएक्यूआइफिरसेबढ़नेलगाहै।14अप्रैलकोयहबढ़कर108,15को111व16को114माइक्रोग्रामहोगई।इसकेबढ़नेकाकारणआसपासकचरेमेंआगलगायाजानारहा।

बृहस्पतिवारकोयह132माइक्रोग्रामपरपहुंचगया।डीजलचलितवाहनसबसेज्यादाप्रदूषणफैलातेहैं।वहींअबगेहूंकटाईभीजोरोंपरहोरहीहै।गेहूंसेनिकलनेवालाभूसाहवामेंमिलकरवातावरणकोप्रदूषितकरनेलगाहै।सारेउद्योगधंधेभीबंदहोनेसेभीहवामेंप्रदूषणनहींहोरहा।30दिनमेंनिर्मलहोगईयमुना:

जिलामेंयमुनानदीकीकुललंबाई70किलोमीटरहै।कलेसरग्रामपंचायतकाममदूपुरहरियाणाकापहलागांवहैजोयमुनानदीकेसाथलगताहै।इसकेबादकरनालकेगुमथलारावतककरीब52गांवयमुनानदीकेसाथलगतेहैं।कनालसीगांवकेपासपहाड़ोंसेनिकलनेवालीसोमनदीयमुनानदीसेमिलजातीहै।सोममेंभीइनदिनोंस्वच्छवनिर्मलजलबहरहाहै।प्रतापनगरखंडमेंहथनीकुंडबैराजसेहरियाणावउत्तरप्रदेशकीनहरोंमेंपानीकाबंटवाराहोताहै।डॉ.अजयगुप्तानेबतायाकिमार्चमेंउनकीटीमनेहरिद्वारमेंयमुनानदीकाजोसैंपललियाथाउसमेंटीडीएस110एमजी(मिलीग्राम)प्रतिलीटरआईथी।घरोंमेंजोपानीसप्लाईहोताहैउसमेंटीडीएस150से300एमजीतकहोताहै।फैक्ट्रियांबंदहोनेसेइसमेंगंदेनालेनहींगिररहे।शुद्धपानीमेंटीडीएस100से500एमजी,बीओडी3एमजी,आक्सीजन5एमजीप्रतिलीटरवकोलाइफोम500एमपीएनप्रति100एमएलहोनाचाहिए।लॉकडाउनमेंबंदकाबड़ाअसर:अजयगुप्ता

पर्यावरणविदएवंजीववैज्ञानिकडॉ.अजयगुप्तानेबतायाकिलॉकडाउनमेंसबकुछबंदरहनेसेवातावरणस्वच्छहुआहै।पहलेकूड़ेमेंआगलगाईजातीथीजोअबनहींहोरहा।वाहनभीकमचलरहेहैं।डीजलकीगाड़ियोंसेप्रदूषणबहुतज्यादाहोताहै।येस्वच्छवातावरणकाहीअसरहैकिअप्रैलमेंअभीतकइतनीगर्मीनहींहै।रातकोमौसमठंडारहताहै।यदिप्रशासनथोड़ीओरसख्तीकरेतोएक्यूआइइससेभीनीचेजासकताहै।