रिश्तों में उलझी जिंदगी का खौफनाक अंत, क्या हत्या ही है एकमात्र विकल्प

[क्षमाशर्मा]।हालमेंआंध्रप्रदेशकेविजयनगरममेंएकनवविवाहिताकोअपनेपतिकीहत्याकरानेकेअपराधमेंगिरफ्तारकियागया।पुलिसकेअनुसारमहिलानेपतिकीहत्याकेलिएबीटेककरचुकेकुछबेरोजगारयुवकोंकासहारालिया।इनमेंउसकादोस्तभीशामिलथा।वहभीबीटेकहै।महिलाकापतिभीइंजीनियरथा।महिलानेहत्याकरनेवालोंकोतोहफेकेरूपमेंअपनीशादीकीअंगूठीदीथी।उसनेहत्यारोंकोकुछपैसेआनलाइनभीभेजेथेऔरकुछनगददिएथे। महिलानेहीपुलिसमेंशिकायतकराईथीकिरातआठबजेजबवहअपनेपतिकेसाथबाइकसेलौटरहीथीतोरास्तेमेंआटोमेंसवारलुटेरोंनेउनकीबाइकरोकउसकेजेवरातछीनलिएऔरउसकेपतिकीहत्याकरदी।

जबपुलिसनेतमामआटोवालोंसेपूछताछकीतबउसेवेतीनयुवकमिलेजिन्होंनेहत्याकीथी।पुलिसकीसख्तीकेसामनेउन्होंनेहत्याकीपूरीकहानीबयानकी।महिलानेबाकायदायोजना बनाकरएकांतजगहपरकिसीबहानेसेबाइकरुकवाईथी।हत्यारेउनकापीछाकरहीरहेथे।पूरीघटनापढ़करउसलड़केकेलिएदुखहोताहैजिसनेअपनीजानबिनाकारणगंवादी।अगरमहिलाउससेशादीनकरके,अपनेदोस्तसेशादीकरलेतीतोशायदउसकेपतिबनेयुवककीजाननजाती।आखिरउसकाक्यादोषथा?

आजकलअक्सरऐसीघटनाएंसुनाईदेतीहैं,जहांलड़कियांपरिवारयासमाजकेदबावकेकारणअपनीमर्जीकेबिनाविवाहकरलेतीहैंऔरफिरकईबारखतरनाकइरादोंकोअंजामदेतीहैं।एकसमययहमानाजाताथाकिअगरप्रेमीयाप्रेमिकाकीशादीहोगईतोउनकेरास्तेऔरदुनियाअलगहोगई।वेसंबंधअतीतकेहुएइसलिएउन्हेंभूलनाहीबेहतरहै,लेकिनअबबहुतसीऐसीघटनाओंमेंलड़कियांअपनेमाता-पितायासमाजकेडरयासंकोचकेकारणअपनेमनकीबातनहींकहपातींऔरउधरउन्हेंअपनीशादीरासनहींआती।वेहरहालमेंअपनेप्रेमीकेपासलौटजानाचाहतीहैं।बहुतसेमामलोंमेंलड़केभीऐसाकरतेहैं।

रिश्तोंमेंटूटनसेउपजेअपराधकेमामलोंमेंएककहानीगढ़लीजातीहै।कईबारकहानीइतनीसावधानीसे गढ़ीजातीहैकिअपराधीपकड़मेंनहींआते,लेकिनबहुतबारवेपकड़ेभीजातेहैं।जोलोगअपराधकेलिएबाहरकेअपराधियोंकीमददलेतेहैंउन्हेंलगताहैकिवेकभीनहींपकड़ेजाएंगेऔरपकड़ेभीगएतोहत्यातोउन्होंनेकीनहींइसलिएछूटभीजाएंगे।अक्सरवेयहीसोचतेहैंकिउनकाकुछनहींबिगड़ेगा।ऐसाहीविजयनगरमकीमहिलानेसोचाहोगा।उसनेसोचाहोगाकिपतिकीहत्याकेबादवहआरामसेअपनेदोस्तकेसाथरहसकेगी,लेकिनअपराधकेप्रमाणसामनेआहीजातेहैं।

इसमहिलानेअपनेपतिकोखुदमरवायाऔरउसेदोस्तकेबदलेजेलमिली।इसघटनासेयहभीपताचलताहैकिआजकलकितनीबड़ीसंख्यामेंउच्चशिक्षितयुवाअपराधकीराहपकड़रहेहैं।हालांकिअपराधीबननेकाकारणसिर्फबेरोजगारीहीनहींहोती।लूटपाटकेजरियेमुफ्तकेपैसेकीआमदकालालचभीयुवाओंकोइसतरफखींचलेजाताहै।

आजकलछोटे-मोटेअपराधोंकेमुकाबलेहत्याकरनाकुछआसानसादिखनेलगाहै।क्याइसलिएकिजिसकीहत्याकीजातीहैवहकभीबदलालेनेनहींआता?जोभीहो,आजकलबात-बातमेंहत्याकीखबरेंदेखनेकोमिलतीहैं।पचास-सौरुपयेके लिएयाएककपचाययाएकसिगरेटनदेनेपरहत्याकीखबरेंआतीरहतीहैं।विजयनगरमकीघटनामेंमात्र18हजाररुपयेऔरएकअंगूठीदेकरहत्याकरादीगई।यहबातदिलदहलादेनेवालीहैकिजिसनेअंगूठीदीउसीकेहत्यारोंकोउसकीहत्याकेबदलेअंगूठीउपहारमेंदेदीगई।

कोईयहकहसकताहैकिइतनेदिनोंसेपुरुषऔरतोंकोसतारहेहैं,हिंसाकररहेहैं,हत्याकररहेहैंतोएकऔरतनेऐसाकरदियातोक्याहोगया,लेकिनजबपुरुषोंकोकिसीहत्यायादहेजकेलिएपत्नीकोसतानेअथवातरह-तरहकीहिंसाकरनेकेलिएमाफनहींकियाजासकतातोऔरतोंकोभीक्योंकियाजानाचाहिए?वैसेभीसाथनरहनाहोतोमित्रताकोबरकराररखतेहुएसंबंधखत्मकिएजासकतेहैं।यहक्याबातहुईकिकिसीसंबंधको खत्मकरनेकाएकमात्रउपायहत्यामेंदेखाजाए?अफसोसहैकिसमाजमेंइतनीहिंसाबढ़गईहैकिसंबंधोंपरविश्वासभीखत्महोताजारहाहै।कभीकोईपिताअपनेदुधमुंहेकोमारदेताहै,कोईमांबच्चीकागलादबादेतीहै।येवेसंबंधहैंजोबेहदनजदीकके-परिवारकेहैं।येसंबधोंमेंहमारीआस्थाटूटनेकाप्रमाणभीहैं।यहआस्थाकैसेबचेगी,कैसेसंबंधोंकीडोरफिरसेमजबूतहोगी,कौनबताए।

(लेखिकासाहित्यकारहैं)