Raghuvansh Prasad Singh: मोदी लहर में थम गया रघुवंश बाबू का विजयी रथ, वैशाली सीट से लगातार पांच बार रहे सांसद

मुजफ्फरपुर[अजयपांडेय]।वर्ष2014कालोकसभाचुनावमोदीलहरपरसवारथा।कईसमीकरणबनेतोकईटूटे।भाजपा-जदयूकावर्षोंपुरानासंबंधबिखरचुकाथा।टक्करआमने-सामनेकीथी।गठबंधनोंमेंदलोंकेबिखरावसेसारेफार्मूलेनिर्मूलसाबितहोरहेथे।राजदकेडॉ.रघुवंशप्रसादसिंहकीपरंपरागतसीटवैशालीपरमुकाबलाचतुष्कोणीयहोचुकाथा।2009मेंरघुवंशप्रसादसिंहकेखिलाफचुनावलडऩेवालेजदयूकेविजयकुमारशुक्लामैदानमेंनहींथे,लेकिनउनकीजगहपत्नीअनुशुक्लाडटीहुईथीं।

उसचुनावमेंरामविलासपासवानकीलोकजनशक्तिपार्टी(लोजपा)गठबंधनमेंभाजपाकेसाथथी।लोजपानेरामाकिशोरसिंहकोउम्मीदवारबनायाथा।आखिरीपत्ताजदयूनेचला।उसनेनिषादवोटबैंककोध्यानमेंरखतेहुएविजयसहनीकोउम्मीदवारबनादिया।बाजीरामाकिशोरसिंहसेहाथलगी।उन्होंने99,267केअंतरसेरघुवंशबाबूकोपरास्तकरदिया।इसतरहवर्ष1996सेलगातार(1996,1998,1999,2004और2009)चुनावजीतनेकाउनकासिलसिला2014मेंथमगया।

पिछलीबारबढ़गयाथाहारकाअंतर

वर्ष2019केचुनावकीतस्वीरबदलचुकीथी।समीकरणभीबदलचुकेथे।जदयूअबगठबंधनमेंभाजपाऔरलोजपाकेसाथथा।इसबारभीयहसीटलोजपाकेखातेमेंहीरही।हालांकि,उसकीओरसेचेहराबदलचुकाथा।इसबारवीणादेवीकोपार्टीनेउम्मीदवारबनाया।रघुवंशबाबूकेसामनेउनकेराजनीतिककदकीतुलनाहोनेलगी,लेकिनवीणाऔरलोजपाकोएकबारफिरमोदीलहरकासहारामिला।वीणाने2014केमुकाबले2,34,584वोटोंकेबड़ेअंतरसेउन्हेंपरास्तकरदिया।इसचुनावमेंवीणादेवीको5,68,215और रघुवंशप्रसादको3,33,631वोटमिलेथे।उन्हेंंजाननेवालेबतातेहैंकिलगातारदोहारकेबादवेकाफीआहतहुएऔरधीरे-धीरेराजनीतिकीमुख्यधारासेकटनेलगेथे।