राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस : प्रकृति के अहसास के साथ विदेशी मेहमानों के स्वागत का सदियों से बना रिश्ता

-जिलेकाएकमात्रप्रसिद्धपर्यटनस्थल,सरकारध्यानदेतोलाजवाबबनेस्थान

-अक्टूबरसेमार्चतकआतेहैंविदेशीपक्षी,लुभातेहैंदर्शकोंको

-भिडवासवन्यजीवअभ्यारण्यमेंहरवर्षआतेहैं10-15हजारदर्शकफोटो:24जेएचआर11से15जागरणसंवाददाता,झज्जर:

करीबछह(अक्टूबरसेमार्च)माहतकविदेशीमेहमानों(विदेशीपक्षियों)कायहांपरठहरावहोताहै।इसदौरानहरवर्षहजारोंपर्यटकभीखिचेचलेआतेहैं।हमबातकररहेहैंजिलेकाएकमात्रप्रसिद्धपर्यटनस्थलभिडावासवन्यजीवअभयारण्यकी।जहांपरकरीबछहमाहकेदौरानबड़ीसंख्यामेंविदेशीपक्षीपहुंचतेहैं।इसअवधिकेदौरानभिडावासवन्यजीवअभयारण्यमेंठहरेविदेशीपक्षियोंकोदेखनेकेलिएनाकेवलस्थानीयबल्किदेशभरकेअनेकपर्यटकयहांपहुंचतेहैं।लाखोंकीसंख्यामेंप्रवासकरनेवालेपक्षियोंकोदेखनेकेलिएकरीब10-15हजारपर्यटकयहांपरपहुंचकरउन्हेंनिहारतेहैंऔरप्रकृतिसेमौजूदगीकाअहसासभीउन्हेंहोताहै।हालांकि,इसमेंकुछऔरसुधारकियाजाएतोपर्यटकोंकेलिएआकर्षणकाकेंद्रबननेकेसाथ-साथपर्यटकोंकीसंख्याभीबढ़सकतीहै।1017एकड़मेंफैला

बॉक्स:बतादेंकिभिडावासवन्यजीवअभ्यारण्यकरीब1017एकड़एरियामेंफैलाहुआहै।दर्शकोंकोइसेपूरादेखनेकेलिएकरीब12-15किलोमीटरलंबाचक्करलगानापड़ताहै।भिडावासवन्यजीवअभ्यारण्यविदेशीपक्षियोंकेलिएप्रसिद्धहै।यहांपरविदेशोंसेपक्षियोंकेप्रवासकीशुरूआतअक्टूबरमाहमेंहोजातीहै।वहींफरवरी-मार्चमाहतकयहांरहनेकेबादकरीबमार्चमाहमेंयेपक्षीवापसीकेलिएउड़ानभरतेहैं।इनछहमाहकेदौरानविदेशीपक्षियोंकोदेखनेकेलिएदूर-दूरसेदर्शकयहांपरपहुंचतेहैं।विदेशीपक्षीदर्शकोंकोलुभानेकाकामकररहेहैं।येसुविधाऔरमिलेतोबनेबेहतर

बॉक्स:दरअसल,भिडावासवन्यजीवअभ्यारण्यकीओरसरकारध्यानदेतोइसकोऔरअधिकबढ़ावामिलसकताहै।इसकेलिएसरकारकोचाहिएकिवहइसकीचारदीवारीकरवाएऔरएंट्रीकेलिएगेटभीलगाएजाएं।ताकिघूमनेकेलिएआनेवालेपर्यटकोंकोअच्छेसेघूमनेकामौकामिलें।वहींजोपर्यटकघूमनेआतेहैं,उन्हेंसबसेअधिकखानेवठहरनेकीसमस्याकासामनाकरनापड़ताहै।अगरयहांपरखानेवठहरनेकीव्यवस्थाभीहोजाएतोपर्यटकलंबेसमयतकयहांठहरेंगे।इससेआर्थिकलाभभीहोगा।क्योंकि,जोपर्यटकयहांपरआतेहैं,उन्हेंपूराघूमकरदेखनेकेलिएकरीब12-15किलोमीटरकीदूरीतयकरनीपड़तीहै।इसलिएसमयअधिकलगताहै।ऐसीस्थितिमेंयहांखानेकीभीजरूरतहोतीहै।जिसकीव्यवस्थाहोजाएतोपक्षीप्रेमियोंकोभीबेहतरलगेगा।जबकि,मौजूदासमयमेंफिलहालखानेवठहरनेकीकोईव्यवस्थानहींहैं।-भिडावासवन्यजीवअभयारण्यमेंअक्टूबरसेमार्चमाहतकविदेशीपक्षीआतेहैं।जिन्हेंदेखनेकेलिएभीदूर-दराजसेपर्यटकयहांपहुंचतेहैं।करीबछहमाहतकपर्यटकोंकीभीचहल-पहलदेखीजातीहै।हरवर्षकरीब10-15हजारपर्यटकयहांपहुंचतेहैं।इनमेंविदेशीपक्षीप्रेमीभीशामिलहोतेहैं।

-देवेंद्रहुड्डा,इंस्पेक्टर,भिडावासवन्यजीवअभयारण्य,झज्जर।