प्यौदा गांव में निकासी का नहीं है प्रबंध,जलभराव से लोग परेशान

जागरणसंवाददाता,कैथल:

प्यौदागांवमेंसुविधाओंकाअभावहै।पानीकीनिकासीनहोनेसेसड़कोंपरजलभरावकीस्थितिरहतीहै।इसकारणलोगोंकाफीदिक्कतोंकासामनाकरनापड़रहाहै।वहींखेलस्टेडियमनहींहोनेसेयुवाओंकोखेलोंकाअभ्यासकरनेमेंपरेशनीआरहीहै।

ग्रामीणोंकाकहनाहैकिकईबारपंचायतकोइसकेबारेमेंसरकारकोलिखकरभेजचुकीहै,लेकिनसरकारकीतरफसेमंजूरीनहींमिलपारहीहै।सड़कोंपरयुवासैरकरतेहैं,इससेहादसेकाडरहरसमयबनारहताहै।पानीकीनिकासीकीसमस्याकोदूरकरनेकेलिएसीवरेजडालाजानाचाहिए,ताकिलोगोंकोसमस्यासेछुटकारामिलसके।

सड़कभीगांवमेंटूटीहुईहै

ग्रामीणसंदीपनेबतायाकिजींदरोडपरजानेवालीसड़कभीगांवमेंटूटीहुईहै।बरसातहोतेहीपानीयहांएकत्रितहोजाताहै।दोपहियावाहनचालकोंकोपरेशानीहोतीहै।राहगीरकईबारगिरकरघायलभीहोजातेहै।

गांवसेएनएचतक33फुटसड़ककीहोचौड़ाई:

ग्रामीणबसाऊरामनेबतायाकिगांवसेलेकरएनएचपरजानेवालेरास्तेकीचौड़ाई33फुटकीजाए।यहरास्ताएनएचसेकैथलशहरकोजोड़नेवालामुख्यलिकमार्गहै।वाहनोंकीकीसंख्याज्यादाहोनेकेकारणदुर्घटनाहोनेकाखतरारहताहै।सड़ककीचौड़ाईकमहोनेसेकईबारवाहनचालकोंकीआपसमेंभिड़तहोजातीहै।सड़ककोचौड़ाकियाजाए।

सामुदायिककेंद्रबनायाजाए

ग्रामीणनरेशनेबतायाकिगांवमेंसामुदायिककेंद्रबनायाजाए।यहसुविधाहोनेसेसार्वजनिककार्यक्रमआयोजितहोसकतेहैं।अबयहसुविधानहोनेसेकाफीदिक्कतआरहीहै।

यहहैगांवकाइतिहास

प्योदागांवमेंशिवजीकाऐतिहासिकमंदिरहैजहांग्रामीणपूजाअर्चनाकरतेहैं।गांवकीआबादीछहहजारकेकरीबहै।3580मतदाताहैं,60प्रतिशतजनसंख्यासाक्षरहैं।

गांवमेंकराएजारहेविकासकार्य

सरपंचप्रतिनिधिराममेहरनेबतायाकिगांवमेंसरकारकेसाथमिलकरविकासकार्यकराएजारहेहैं।गांवमेंमूलभूतसुविधाएंपूरीकरानेकीतरफविशेषध्यानदियाजारहाहै।पानीनिकासीकीसमस्याकोदूरकरनेकेलिएअधिकारियोंकेसंज्ञानमेंमामलालायागयाहै।उम्मीदहैकिजल्दहीयहसमस्यादूरहोजाएगी।