पशु पक्षियों के साथ क्षेत्रीय लोगों के जीवन का आधार है बंडा तारा

संवादसूत्र,गड़वारा:गर्मियोंकेमहीनेमेंजबनदीवतालाबसूखजातेहैं।जमीनकेनीचेकाजलस्तरगिरजाताहै।चारोंतरफपानीकेलिएहाहाकारमचारहताहै।पशुपक्षीपानीकेलिएदर-दरभटकनेकोमजबूररहतेहैं।ऐसेमेंसदरविकासखंडकेपूरेअंतीग्रामपंचायतमेंस्थितबंडासकटडीहकातालाबपशुपक्षियोंकेसाथस्थानीयलोगोंकेलिएजीवनकाआधारबनकरखड़ारहताहै।लगभगपांचबीघेमेंफैलायहतालाबसालभरबरसातकेपानीसेभरारहताहै।इसमेंनाकेवलपशुपक्षीअपनीप्यासबुझातेहैं,बल्किक्षेत्रीयलोगइसतालाबकोअपनेजीविकोपार्जनकेसाधनकेरूपमेंभीउपयोगकरतेहैं।तालाबकेआसपासकुम्हारलोगोंकीबस्तियांहैं।वहइसीतालाबकेमिट्टीसेजहांबर्तनबनातेहैं,वहीइसकाममेंइसकापानीभीउपयोगकरतेहैं।गांवकेलोगशादीविवाहमेंतालाबकीपूजाकरकेहीदूल्हादुल्हनकोविदाकरतेहैं।छोटेबच्चोंकेलिएजहांयहस्विमिगपूलकाकामकरताहै।इलाकेकेजेठूप्रजापति,पंकजविश्वकर्मा,मनोजकुमारशुक्ला,मोहनशुक्लाऔररामसजीवनवर्माआदिलोगोंकीमानेतोजबनदीतालाबऔरपोखरेसूखरहेहैंऔरलोगइसकेरखरखावकेप्रतिउदासीनहोतेजारहेहैं।ऐसेमेंक्षेत्रमेंबंडाताराकेनामसेमशहूरयहतालाबलोगोंकेजीवनकाआधारहै।यहबेसहाराजानवरोंऔरपक्षियोंकेलिएसंजीवनीकेसमानहै।उन्होंनेप्रकृतिकेइनधरोहरोंकीउचितदेखभालकीआवश्यकतापरबलदेनेकीबातकही।उनकाकहनाहैकितालाबऔरपोखरोमेंबरसातकापानीभरनेसेनाकेवलजमीनकाजलस्तरसहीरहताहैबल्किआवश्यकतापड़नेपरलोगोंकेकामभीआताहै।