पशु आश्रय स्थल में 75 में बचे मात्र 35 गोवंश

हरपालपुर-अहिरोरी:गोशालाओंमेंइंतजामोंकेदावेतोहोरहेहैंलेकिनगोवंशभूखसेपरेशानहैं।हरपालपुरक्षेत्रकेश्यामपुरपंजामेंस्थितपशुआश्रयस्थलमें75गोवंशोंमेंसेमात्र35बचेहैं।बाकीकहांचलेगएकोईबतानेवालानहींहै।

श्यामपुरपंजागांवमेंपशुआश्रयस्थलमेंकरीब75गोवंशपंजीकृतहैं।जिनमेंसेकेवल35गोवंशहीशेषबचेहैं।बाकीगोवंशोंकीकोईजानकारीनहींहै।बतातेचलेंकिआश्रयस्थलमेंपर्याप्तभूसा,पानीवटीनशेडनहोनेकीगोवंशतड़परहे।गांवकेहीआशीषमिश्रानेबतायाहैकिकोईभीकर्मचारीगायबगोवंशोंकेबारेमेंजानकारीनहींदेरहाहै।बीडीओऔरएडीओपंचायतसेशिकायतकरनेकेबादभीकोईकार्रवाईनहींहोरहीहै।काफीसंख्यामेंगोवंशोंकीमौतहोचुकीहै।परआजतककोईदेखनेवालानहींहै।वहींअहिरोरीविकासखंडकेमझिगवांरामगुलाममेंगोवंशोंकेलिएभूसातकनहींहै।75गोवंशपरिसरकेअंदरउगीखासखानेकोमजबूरहैं।प्रधानपतिजयकरनपालनेबतायाकिभूसाकेलिएपैसाहीनहीहै।किसीतरहसेआश्रयस्थलकानिर्माणतोकरादियागयालेकिनबाकीइंतजामकहांसेकरें।