प्रयागराज की इन महिलाओं के हुनर को सलाम, कपड़ों की तुरपाई से सजाया जिंदगी का गोटा

प्रयागराज,[गुरुदीपत्रिपाठी]।महिलाओंऔरबेटियोंकोआत्मनिर्भरबनानेमेंप्रयागराजकीऊषामिश्राऔरनिकितायादवकीअनूठीपहलकेआगेअबगरीबीनतमस्तकहोनेलगीहै।गरीबीसेजंगमेंऊषामिश्राऔरनिकितायादवनेकारवांतैयारकियाहै।हुनरसीखनेकेसाथइसेबांटनेकीकड़ीमेंअबतकतकरीबन2000बेटियां-महिलाएंशामिलहोचुकीहैं।उन्होंनेकपड़ोंकीतुरपाईसेजिंदगीकागोटासजादियाहै।

सेरावांगांवकीऊषाबनींआत्‍मनिर्भर

प्रयागराजकेसेरावांगांवकीऊषातकरीबन15वर्षोंसेलड़कियोंऔरमहिलाओंकोकपड़ोंकीतुरपाईसेजिंदगीकागोटासजानेकाकामकररहीहैं।सेरावांकेस्वामीविवेकानंदउच्चतरमाध्यमिकविद्यालयसे12वींकीपढ़ाईपूरीकी।इसीबीचउनकीशादीहोगई।पतिमहेशमिश्रडाकविभागमेंपोस्टमैनहैं।सामान्यघरसेताल्लुकरखनेवालीऊषाकाबचपनहमेशाकुछनयाकरनेमेंहीबीता।यहीवजहहैकिउन्होंनेअपनीजिदकेआगेगरीबीकोझुकादिया।उनकाख्वाबरहाकिवहखुदआत्मनिर्भररहेंऔरमहिलाओंकोभीस्वावलंबीबनाएं।उन्होंनेकरीब15वर्षपहलेसिलाई-कढ़ाईसिखानाशुरूकरकिया।

सेरांवाकीनिकिताकोमिलीसफलता

सेरावांस्थितपंडितकापूरागांवकीनिकिताकाबचपनमुफलिसीमेंगुजरा।पिताइंद्रपालयादवकिसानऔरमांगृहिणीहैं।निकितानेबतायाकिवहअब600लड़कियोंकोप्रशिक्षितकरचुकीहैं।उन्होंनेइसीकेबूतेअपनाघरबनवायाऔरतीनबहनोंकीशादीकी।इसकेअलावादोछोटेभाइयोंकोपढ़ायाभी।इसकेबादअपनेखर्चसेखुदकीशादीभीकी।अभीभीवहनिरंतरप्रशिक्षणदेनेकेसाथघरकीजिम्मेदारीउठारहीहैं।

दुल्हनसजाकरकीर्ति-बीनूबनींआत्मनिर्भर

मंसूराबादकीकीर्तिऔरअटरामपुरकीबीनूकुशवाहानेदुल्हनसजाकरगरीबीकोमातदीहै।वहखुदआत्मनिर्भरहोनेकेसाथलड़कियोंकेलिएरोजगारकेद्वारखोलरहीहैं।दोनोंलोगब्यूटीपार्लरकासंचालनभीकरतीहैं।कीर्तिकेपतिमुकेशफोटोस्टूडियोसंचालितकरतेहैंऔरबीनूकेपतिरंजीतइलेक्ट्रानिक्सकीदुकानचलातेहैं।