परिषदीय स्कूलों की शिक्षा-व्यवस्था चरमराई

महराजगंज:सरकारकेलाखकोशिशोंकेबावजूदपरिषदीयस्कूलोंकीशिक्षा-व्यवस्थामेंकोईसुधारनहींहोरहाहै।कहींशिक्षकोंकीकमीहै,तोकहींगुरुजीस्कूलजानेकीबजायसाहबकेकार्यालयोंकेचक्करकाटरहेहैं।अबआपहीबताइए,इसहालतमेंनौनिहालोंकाभविष्यकैसेसंवरेगा।शनिवारको'जागरण'टीमनेनौतनवातहसीलकेप्राथमिकविद्यालयकरमहियापहुंचीतोशिक्षा-व्यवस्थाकीपोलखुलगई।

स्थानप्राथमिकविद्यालयकरमहिया

स्कूलकेदोकमरोंमेंबच्चेमौजूदमिले।प्रधानाध्यापककाकक्षखुलाथा,कुर्सियांभीलगीथीं,लेकिनगुरुजीनहींथे।अध्यापकमिथिलेशकुमारदुबेनेबतायाकीप्रधानाध्यापककाचार्जभीमुझेहीसंभालनापड़ताहै।सहायकअध्यापकभानूप्रतापसिंहवशिक्षामित्ररीतासिंहबच्चोंकोसंयमितकरनेमेंमशगूलमिले।शिक्षामित्रविष्णुप्रसादस्कूलपरनहींमिले।पूछनेपरपताचलाकिवहकिसीजागरूकताकार्यक्रमकेलिएगांवमेंहैं।यहां85छात्रपंजीकृतहैं,जोकितैनातअध्यापकोंकीतुलनामेंकाफीकमहै।शौचालयजर्जरऔरबदहालहोचुकाहै।अभीहालमेंदोमाहपूर्वप्राथमिकस्कूलमेंबनेशौचालयपरतालालटकामिला।छात्रवछात्राएंशौचकेलिएअगल-बगलमेंखुलेखेतोंमेंजानेकोमजबूरथे।विद्यालयपरिसरमेंसिर्फएकइंडियामार्कहैंडपंपहै,जोदूषितजलउगलरहाहै।स्कूलकीबाउंड्रीवालदोवर्षपूर्वआएभूकंपमेंगिरगयाथा।टूटीबाउंड्रीकोबनवानेकेलिएप्रधानसेकईबारकहागया,लेकिनभूकंपमेंगिरेबाउंड्रीकोठीकनहींकरवायाजारहाहै।अध्यापकोंनेबतायाकीबाउंड्रीगिरनेसेगांववालेटूटीचाहरदीवारीकेरास्तेस्कूलकेबरामदेमेंआकरताशखेलतेहैं।अध्यापकोंनेबतायाकीगांवकेलोगटूटीबाउंड्रीवालकेरास्तेटैक्टरट्रालीवबाइकलेकरस्कूलकेसामनेसेवाहनलेकरआतेजातेहैं।ग्रामीणमनाकरनेपरहमलोगोंसेझगड़ाकरतेहैं।