प्राथमिक विद्यालय जाफरपुर में नहीं है शौचालय

मैनपुरी:बच्चेखुलेमेंशौचकेलिएनजाएंइसकेलिएसभीपरिषदीयविद्यालयोंमेंशौचालयकानिर्माणकरायागयाथा।लेकिनजिम्मेदारोंनेशौचालयकेनामपरजैसेमजाककिया।अधिकांशपरिषदीयविद्यालयोंमेंकेवलदीवारेंऔरछतबनाकरछोड़दीगईं।ऐसेमेंयेशौचालयकिसीकामनहींआसके।बच्चेखेतोंमेंशौचकेलिएजारहेहैं।

बरनाहलकेप्राथमिकविद्यालयजाफरपुरमेंबनेशौचालयोंकाहालभीकुछऐसाहीहै।यहांकहनेकोतोदोशौचालयबनेहुएहैं।उनमेंदरवाजेभीलगवाएगएहैं।लेकिननतोशौचालयमेंटॉयलेटसीटलगवाईगईऔरनहीसेफ्टिकटैंककानिर्माणकरायागया।इसकेकारणआजतकशौचालयउपयोगमेंनहींआसके।निर्माणकेदौरानशौचालयकीछतपरपानीकीटंकीलगवाईगईथीजोअबक्षतिग्रस्तहोचुकीहै।ऐसेमेंशिक्षकऔरबच्चोंकोशौचकेलिएखेतोंमेंजानापड़ताहै।

विद्यालयकेप्रभारीप्रधानाध्यापकगणेशकुमारकाकहनाहैकिउन्होंनेदोबारअधिकारियोंकोपत्रलिखकरशौचालयबनवाएजानेकीमांगकी।लेकिनआजतकनतोपत्रकोकोईजवाबमिलाऔरनहीशौचालयकानिर्माणहोसका।हमाराकामशिक्षणकाहैजोहमकररहेहैं।अबविभागचाहेशौचालयकानिर्माणकराएयानकराए।

स्कूलमेंशौचालयतोदोहैं,लेकिनउनमेंशीटहीनहींहै।इसकेकारणशौचालयोंमेंतालाहीलगारहताहै।सभीबच्चेस्कूलकेपीछेशौचकेलिएजातेहैं।

सभीबच्चेयातोखेतोंमेंशौचकेलिएजातेहैंयाफिरअपनेघरचलेजातेहैं।हमारेस्कूलकेशौचालयकाटैंकनहींबनाहै,इसकेकारणपरेशानीहोतीहै।

स्कूलआनेवालेसभीबच्चोंकोअगरशौचजानाहोताहैतोवेअपनेघरहीजातेहैं।कईबच्चेतोघरजानेकेबादस्कूललौटकरभीनहींआतेहैं।

स्कूलमेंशौचालयनहोनेकेकारणशिक्षकभीघरजानेकीअनुमतिदेदेतेहैं।कईबच्चेशौचकाबहानाबनाकरभीघरचलेजातेहैं।