पिछड़े इलाकों में रहने वाली लड़कियों और महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प

नितिनधीमान,अमृतसर

जिनकेहृदयमेंपरोपकारकीभावनाहोतीहैवेश्रेष्ठकहलातेहैं।श्रीमद्भगवदगीतामेंपरोपकारवप्रेमकोसबसेबड़ाधर्मबतायागयाहै।जिलेकीमलीनबस्तियोंअथवापिछड़ेइलाकोंमेंरहनेवालीलड़कियोंऔरमहिलाओंकोआत्मनिर्भरबनानेमेंमाताकौशल्याकन्याकल्याणसमिति,शक्तिमहिलासहायताकेंद्रवरानीझांसीसोसायटीवर्षोसेअग्रणीभूमिकामेंहैं।पूर्वस्वास्थ्यमंत्रीप्रो.लक्ष्मीकांताचावलाद्वारासंचालितइनसंस्थाओंकेतत्वावधानमेंलड़कियोंकोकंप्यूटरप्रशिक्षण,सिलाई-कटाईप्रशिक्षणवब्यूटीपार्लरकाप्रशिक्षणनिश्शुल्कदियाजाताहै।

शिवनगरकालोनीमेंइनसंस्थाओंकामुख्यालयरानीझांसीभवनहै।यहांब्यूटीपार्लरवसिलाई-कटाईकाप्रशिक्षणलड़कियोंकोदियाजाताहै।इसीभवनमेंकंप्यूटरसेंटरभीहै।इसकेअलावाबटालारोड,कोटखालसा,एकतानगर,गुरुनानकपुरावशर्माकालोनीमेंभीसिलाईसेंटरहैं।प्रत्येकसेंटरमेंअनुभवीप्रशिक्षकहैं,जोइनलड़कियोंऔरमहिलाओंकोआत्मनिर्भरबनारहेहैं।अबतकसैकड़ोंहीलड़कियांकोर्सपूराकरअपने-अपनेक्षेत्रमेंकामकरअपनावपरिवारकाभरणपोषणकररहीहैं।इनमेंकुछऐसीभीहैंजिनकेअभिभावकोंनेउन्हेंस्कूलतकनहींजानेदिया।अबयेलड़कियांआत्मनिर्भरबनचुकीहैंऔरघरोंपरसिलाई-कटाईकरकेकमाईकररहीहैं।कुछलड़कियांशहरकेप्रतिष्ठितसंस्थानोंमेंकार्यरतहैं।हरबेटीहुनरमंदबने,यहीहमाराउद्देश्य:प्रो.चावला

प्रो.लक्ष्मीकांताचावलाकहतीहैंकिबेटियोंकोअपनेपैरोंपरखड़ाकरनाजरूरीहैं।हमारेसमाजमेंआजभीबेटियोंकोबोझसमझाजाताहै।कन्याभ्रूणहत्याजैसीकुरीतिथमनहींरही।हमाराप्रयासहैकिहरबेटीहाथकाहुनरसीखे।सिलाई-कटाईकाकोर्सपूर्णकरनेवालीलड़कियोंकोसिलाईमशीनेंदीजातीहैं,वहींब्यूटीपार्लरकाकोर्सकरनेवालीलड़कियोंकोकिटदीजातीहै।इसकेअलावादेशकेमहानयोद्धाओं,क्रांतिवीरोंकीजीवनगाथासेभीपरिचितकरवायाजाताहै।असलमेंयेलड़कियांघरकेचूल्हेचौंकेवदहलीजसेनिकलकरअपनावपरिवारकाभरणपोषणकरनेमेंसक्षमहोचुकीहैं।