फूलों की खुशबू से महका लमगड़ा का पौधार

चंद्रशेखरद्विवेदी,अल्मोड़ा

अगरमनमेंकुछकरनेकाजज्बाहोतोकोईभीचीजअसंभवनहीं।बिनासरकारीइमदादकेप्रवासीदीपकगुणवंतयहीकररहेहैं।उन्होंनेपरिवारकीमददसेलमगड़ाब्लाककापौधारकोफूलोंकीखुशबूसेमहकादियाहै,वहींअबदिल्लीसेनौकरीछोड़करइनफूलोंकोबाजारदिलानेमेंलगेहैं।आजवह10लाखसेअधिकप्रतिवर्षकीआयअíजतकररहेहैं।

लमगड़ाब्लाककेपौधारगांवकेदीपकगुणवंतकापरिवारपिछले15सालोंसेफूलोंकीखेतीकररहेहैं।उन्होंनेअपनी30नालीजमीनपरगेंदा,ग्लाइडोलिया,गुलदावरी,जरबेरा,कारनेसन,लीलियम,केसरआदिकीखेतीशुरूकी।खेतीकेसाथवहदिल्लीमेंरहकरकामभीकरतेथे।कोरोनाकालकेबादवहबीतेवर्षदिल्लीछोड़करआगए।उनकाअबपूराध्यानफूलोंकीखेतीपरलगनेलगा।उन्होंनेबाजारकाअध्ययनकिया।तबउन्होंनेमनबनायाकिजोयहफूलोंकीखेतीकररहेहैं,उनकोबाजारदियाजाए।बाजारमेंफूलोंकीकाफीमांगहै।

दीपकनेमालरोडमेंनगरपालिकासेफड़लियाऔरगांवमेंउगाएफूलोंकोबाजारदिलानेलगे।उन्होंनेइसछोटीसेदुकानकानामप्रवासीपहाड़ीफ्लावरडेकोरेशनरखा।धीरे-धीरेउनकीडिमांडबढ़नेलगी।आजवहफूलोंसेही10लाखरुपयेप्रतिवर्षआयअíजतकररहेहैं।उनकेसाथगांवमेंचारलोगऔरबाजारमेंफूलबेचनेकेलिएचारलोगलगेहुएहैं।वहफूलोंकीमाला,गुलदस्तेऔरडिमांडकेअनुसारकार्यकररहेहैं।इसकेलिएअबतककोईसरकारीमददनहींली।वहफूलोंकेबीजउद्यानविभागवपंतनगरसेखरीदतेहैं।

दीपककेफूलोंकीखेती

गेंदा-10नाली,ग्लाइडोलिया,गुलदावरी,जरबेरा-चारनाली,कारनेसन-एकनाली,लीलीयम-2नाली,केसर-5नाली।

फूलोंमेंमेहनतभीहैतोअच्छीआमदनीभीहै।नौकरीछोड़अबपूरीतरहसेइसव्यवसायसेजुड़गयाहूं।सरकारमददकरेतोयहव्यवसायबढ़सकताहैं।

-दीपकगुणवंत,बागवान,पौधार,लमगड़ा,अल्मोड़ा