फाइलों तक सिमटा है मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना

बक्सर:कृषिविभागकीओरसेसंचालितमृदास्वास्थ्यकार्डयोजनाफाइलोंतकसिमटकररहगयाहैं।किसानोंकेहितमेंसरकारद्वारालायागयामृदास्वास्थ्यकार्डयोजनालंबेअंतरालकेबादभीकिसानोंकेखेततकनहींपहुंचपायाहै।योजनाकेप्रतिनतोविभागहीतत्परहैऔरनकिसानइसयोजनाकालाभउठानेकेलिएआगेआरहेहैं।परिणामस्वरूपआजखेतोंमेंखुलेआमरसायनिकखादोंकाधड़ल्लेसेइस्तेमालहोरहाहै।जिसकासीधाअसरमिट्टीकीउर्वराशक्तिपरपड़रहाहै।

कृषिवैज्ञानिकभीस्वीकारकररहेहैंकिइसअंधीदौड़काखतरनाकपरिणामतबभुगतनापड़ेगा।जबहमारीउपजाऊमिट्टीबंजरहोजाएगी।इसमहत्वाकांक्षीयोजनाकीविफलताकाअंदाजाइससेलगासकतेहैंकिगिने-चुनेकिसानहीजैविकखादकेसहारेफसलउत्पादितकरपातेहैं।ज्यादातरकिसानरसायनिकखादऔरजहरीलेकीटनाशककाधड़ल्लेसेप्रयोगकररहेहैं।कृषिविभागद्वारामिट्टीकीजांचतथाकिसानोंकोमृदास्वास्थ्यकार्डयोजनाकेप्रतिप्रखंडक्षेत्रकेविभिन्नगांवोंकेकिसानोंकोउत्प्रेरितकरनेकेलिएमसर्हियांगांवकोचयनितकियागयाहै।कृषिपदा.अरूणकुमारकाकहनाहैकिमसर्हियांगांवके50किसानोंकोमृदास्वास्थ्यकार्डउपलब्धकरादियागयाहैं।गेहूंकीकटाईहोनेकेबादमिट्टीजांचकरउन्हेंजांचप्रतिवेदनउपलब्धकरायाजाएगा।किसानोंकोइसबातकीजिम्मेदारीहैकिवेबखूबीजैविकखादकाइस्तेमालकरखेतीसेअपनापैदावारबढ़ासकेंतथाखेतीमेंअपनालागतखर्चकमकरसकें।हालांकि,मृदास्वास्थ्यकार्डकीनियमावलीमेंएकबारफिरसेबदलावहुआहै।फसलकटाईकेबादइसबारप्रखंडकेपांचराजस्वग्रामकोमिट्टीजांचकेलिएचुनाजाएगा।मिट्टीजांचकेबादवहांकेकिसानोंकोजल्दमृदास्वास्थ्यकार्डदियाजाएगा।ताकिवेअपनेकृषिकोसफलतापूर्वकउत्पादनकरसकें।

कैसेकामकरेगीमृदास्वास्थ्ययोजना

मृदास्वास्थ्यकार्डयोजनाकेतहतएकटीमकिसानकीजमीनकीमिट्टीकानमूनाइकट्ठाकरेगी।इसकेबादमिट्टीकेसैंपलकोलैबमेंजांचकेलिएभेजाजाएगा।मिट्टीकीजांचकेबादवैज्ञानिकमिट्टीकीजांचकेपरिणामकाअध्ययनकरेंगे।इसकेबादमिट्टीमेंक्याकमीहैऔरक्याखूबियांहै।इसकीसूचीबनाईजाएगी।मिट्टीमेंजोकमियांहैं,उनकोदूरकरनेकेलिएवैज्ञानिकोंकीओरसेसुझावभीदिएजाएंगे।इसकेबादसबसेअंतमेंइनसभीजानकारियोंकोहेल्थकार्डमेंसमायोजितकरकिसानोंकोजारीकियाजाएगा।

मृदास्वास्थ्यकार्डयोजनाकीजानकारीनहींहोनेकेआभावमेंकिसानपुरानेढर्रेपरहीखेतीऔरखादकाइस्तेमालकररहेहैं।जोलोगोंकेलिएजानलेवासाबितहोरहाहै।

अनिलसिंह,नचापगांवकेकिसानकृषिविभागद्वारामृदास्वास्थ्यकार्डपरखानापूरीकीजातीहैं।अगरकृषिविभागद्वाराविस्तारसेइसकीजानकारीदीजाएतथाफायदादिखायाजाएतोनिश्चिततौरपरकिसानरासायनिकखादकेबदलेजैविकखादकाइस्तेमालकरखेतीकरेंगे।

सत्येन्द्रसिंह,बीरपुरगांवकेकिसान

लंबेसमयसेरसायनिकखादकाइस्तेमालकरखेतीकरनेसेयहविश्वासहीनहींहोरहाहैकिजैविकखादकेसहारेखेतीकरबेहतरउत्पादनप्राप्तकरसकतेहैं।अगरऐसासंभवहैतोसभीकिसानरासायनिकखादकेइस्तेमालसेबचनाचाहेंगे।

चरंगासिंह,फफदरगांवकेकिसानरसायनिकऔरकेमिकलवालेखादकाअसरखेतोंमेंतत्कालदेखनेकोमिलताहै।यहीकारणहैकिज्यादातरकिसानमृदास्वास्थ्यकार्डकीअहमियतकोनहींपहचानपारहेहैं।कृषिविभागकोचाहिएकिकिसानोंकेबीचजाकरइसकेलिएमाहौलतैयारकरें।

कपिलमुनिपांडेय,किसानखेतोंमेंपर्याप्तरूपसेकेमिकलखादकाइस्तेमालहोरहाहै।यहखादफसलकेलिएजितनाफायदेमंदहै,उससेअधिकमिट्टीकेलिएनुकसानदेहहै।वृहदअभियानचलाकरइसेसफलबनायाजासकताहै।

बड़कनसिंह,चौगाईंकेअग्रणीकिसानविभागद्वारामृदास्वास्थ्यकार्डयोजनाकेसंबंधमेंकिसानोंकोचौपाललगाकरविस्तृतजानकारीदेनेसेकिसानजैविकखादकेइस्तेमालकेप्रतिउत्प्रेरितहोसकतेहैं।जोकिसानऔरकिसानीदोनोंकेलिएफायदेमंदहोसकताहै।

नमोनारायणपांडेय,ठोरीपांडेयपुरकेकिसान