पेयजल, बिजली की समस्या से बेहाल हसनगढ़, ग्रामीणों में रोष

संवादसहयोगी,सांपला:

हसनगढ़गांवमेंमूलभूतसुविधाओंसेग्रामीणपरेशानहैं।पीनेकेपानी,बिजली,दूषितजलकीनिकासीआदिगांवमेंलचरअवस्थामेंहै।करीब10हजारकीआबादीवालेगांवमेंव्याप्तअसुविधाओंपरग्रामीणोंमेंरोषव्याप्तहै।पीनेकेपानीकीभीसमस्यापरग्रामीणोंनेबतायाकिलोगोंकोखुदकेपैसेसेकैंपरखरीदकरपीनेपरमजबूरहैं।करोड़ोंखर्चकरकेतीनवाटरटैंकबनाएगएहैं।लेकिन,ज्यादातरखालीरहतेहैं।चारसेपांचदिनोंमेंजलघरसेपानीकीसप्लाईहोतीहैलेकिनपीनेयोग्यपानीहीनहींहोता।नहरीपानीकीभीऐसीसमस्याबनीहुईहैकिखेतभीप्यासेरहजातेहैं।बिजलीकीतोबड़ीसमस्याबनीहुईहै।दिनकेसमयबामुश्किलदोघंटेआपूर्तिकीजारहीहै।महामारीकेसमयमेंबिजलीकीसमस्यासेविद्यार्थिोंकीपढ़ाईबुरीतरहप्रभावितहोरहीहै।मोबाइल,लैपटॉपतकचार्जनहींहोपाते।दूषितजलकीनिकासीकेलिएभीप्रबंधगांवमेंनहींहैं।पेयजलकेलिएलोगकैंपरखरीदतेहैं।सप्लाईकापानीकई-कईदिनोंबादआताहै।वहभीपीनेयोग्यनहींहोता।कपड़े,बर्तनतकसहीसेनहींसाफहोते।जलघरकेटैंकमेंज्यादातरसमयपानीदिखाईहीनहींदेता।

-राकेशयादव,ग्रामीणपीनेकेपानीकेसाथहीखेतोंमेंभीसिचाईकेलिएपानीकीसमस्याहै।लोगट्यूबवैलपरनिर्भररहतेहैं।पीनेकेपानीकीपाइपलाइनजगह-जगहसेटूटीहुईहै।बिजलीभीनहींआती।

-रवि,ग्रामीणगांवमेंदूषितपानीकीनिकासीसहीनहींहै।गलियोंमेंकीचड़जमादेखाजासकताहै।मच्छरजनितबीमारियोंकाडरबनारहताहै।गांवकेतालाबोंमेंगंदगीकाआलमहै।इनकीसफाईवर्षोंसेनहींहुईहै।

-मनीषयादव,ग्रामीण।-दूषितपेयजलआपूर्तिसेपेटकीबीमारियोंसेग्रस्तहोजातेहैं।नहरीपानीकेआभावमेंगांवमेंघरेलूकार्यकेसाथहीखेतीकाकार्यभीप्रभावितहै।नहरमेंगंदगीकेकारणटेलतकपानीहीनहींपहुंचपाता।

पप्पू,ग्रामीण।