पेंशन के इंतजार में चले गए 500 प्रोफेसर: रजनीश कुमार

संस,बठिडा:पंजाबमेंसेवानिवृत्तकालेजप्रोफेसरपेंशनकेलिएसरकारसेगुहारलगारहेहैं,लेकिनउनकीमांगपूरीनहींहोरही।इतनाहीनहीं500केकरीबपेंशनर्सतोऐसेहैंजोसरकारसेगुहारलगाते-लगातेइसदुनियासेचलबसे।बाकीजोबचेहैंउनकेबुढ़ापेकाकोईसहारानहीं।यहकहनाहैपेंशन-टू-एडिडकालेजटीचर्सयूनियनपंजाबकेसदस्यप्रो.रजनीशकुमारका।यूनियनकीतरफसेपंजाबकेमुख्यमंत्रीकैप्टनअमरिदरसिंहकोमांगपत्रभेजागयाहै।

प्रधानसुखदेवसिंहहुंदलनेबतायाकिपूरेराज्यमेंकरीब142एडिडकालेजहैं,जिसमेंपढ़ानेवालेप्रोफेसरोंकेलिए1978मेंआईग्रांटइनएडस्कीमकेअधीनपेंशनलगाईगईथी।इसकाबिलभी1999मेंविधानसभामेंपासकरदियागयाथा,लेकिनबिलपासकरनेकेबादसरकारवकालेजमैनेजमेंटयूनियनकाआपसीतालमेलनहींबनापाया।इसकारणपेंशनलगाईनहींगई।इसकाअसरसभीकार्यकरनेवालेप्रोफेसरोंपरपड़ाहै।सभीबुजुर्गहोचुकेप्रोफेसरोंकाइससमयकोईबुढ़ापेकासहारानहींहै।सभीपेंशनरोंकोइससमयदवावअन्यकार्योंकेलिएपैसोंकीजरूरतपड़तीरहतीहै,लेकिनइसकेबावजूदसरकारद्वारासभीपेंशनरोंकोपेंशनदेनेकेलिएकोईकार्यनहींकियागया।

प्रो.रजनीशकुमारनेबतायाकिइनसभीपेंशनर्समेंकरीब500तोपेंशनकाइंतजारकरते-करतेहीचलेगए।जोबचेहैं,वहभीपेंशनकाइंतजारकररहेहैं।बुजुर्गप्रोफेसरकाफीलंबेसमयसेइसआसमेंबैठेहैंकिसरकारकहींनकहींइसपेंशनबिलकोलागूकरसभीकोपेंशनदे।2015मेंसभीपेंशनरोंकीतरफसेकोर्टमेंकेसभीकियागयाथा,जिसकीपेशीअबतकनहींआईहैं।इसकेबावजूदसरकारसोरहीहै।इसकाखमियाजासभीबुजुर्गपेंशनरोंकोभुगतनापड़रहाहै।हरियाणाकेपैटर्नपरदीजाएपेंशन:प्रो.गोसाई

प्रो.एनकेगोसाईनेबतायाकिहरियाणासरकारनेभीसभीएडिडप्रोफेसरोंकोपेंशनदीहै।पंजाबसरकारद्वाराभीहरियाणाकेपेटर्नकेहिसाबसेपेंशनदीजासकतीहै।पूरेदेशमेंकरीब22राज्योंमेंयहपेंशनदीजारहीहै।उन्होंनेसरकारसेअपीलकिसभीबुजुर्गपेंशनकीमांगकोपूराकियाजाएताकिउन्हेंबुढापेमेंसहारामिलसके।