पेगासस साफ्टवेयर के जरिये मोबाइल फोन में घुसपैठ करते हुए जासूसी करने से जुड़ा सच आए सामने

प्रमोदभार्गव।डिजिटलसाफ्टवेयरपेगाससकेजरियेअनेकदेशोंकीसरकारेंअपनेनागरिकों,विरोधियोंवअन्यसंदिग्धोंकीजासूसीकरवातीरहीहैं।दुनियाकी16मीडियासंस्थानोंनेमिलकरइसकथिततथ्यकापर्दाफाशकरनेकादावाकियाहै।इसकेनतीजेपश्चिमकेकईप्रमुखअखबारोंसमेतमीडियापोर्टलपरजारीकिएगएहैं।इनमें40भारतीयोंकेनामभीबताएजारहेहैं,जिनमेंसभीनामीगिरामीहस्तियांहैं।यदिवास्तवमेंइनहस्तियोंकेमोबाइलफोनटेपकिएजारहेथे,तोइसकीसच्चाईजाननेकेलिएइनलोगोंकोअपनेफोनफारेंसिकजांचकेलिएदेनेहोंगे।इसतथ्यकापर्दाफाशहोनेसेसंसदसेसड़कतकबेचैनीजरूरहै,लेकिनइसकेपरिणामकिसीअंजामतकपहुंचपाएंगेइसमेंसंदेहहै।

दरअसलयहमुखबिरीपेगाससकेमाध्यमसेभारतकेलोगोंपरहीनहीं,बल्कि40देशोंके50हजारलोगोंपरकराईजारहीथी।इससाफ्टवेयरकीनिर्माताकंपनीएनएसओनेदावाकियाहैकिइसेवहअपराधऔरआतंकवादसेलड़नेकेलिएकेवलसरकारोंकोहीबेचतीहै।पूर्वआइटीमंत्रीरविशंकरप्रसादनेसंसदमेंएनएसओकापत्रलहरातेहुएइसपूरेमामलेकोनकारदिया।तयहैकिसरकारनेऐसाकोईअनाधिकृतकामनहींकियाहै,जोनिंदनीयहोअथवाअभिव्यक्तिकीस्वतंत्रताकोबाधितकरताहो।इसीलिएइसरहस्यसेपर्दाउठानेवालीफ्रांसकीकंपनीफारबिडनस्टोरीजऔरएमनेस्टीइंटरनेशनलनेऐसेकोईतथ्यनहींदिएहैं,जोफोनपरकीगईबातचीतकोप्रमाणितकरतेहों?गोयाबिनासाक्ष्योंकेकथितपर्दाफाशव्यर्थहै।

आजलगभगपूरीदुनियामेंनीतियांकुछइसतरहबनाईजारहीहैंकिनागरिकडिजिटलतकनीककाउपयोगकरें।दूसरीतरफइंटरनेटमीडियाऐसाठिकानाहै,जिसेव्यक्तिनिजीजिज्ञासापूíतकेलिएउपयोगकरताहै।इसदौरानकीगईबातचीतपेगासससाफ्टवेयरहीनहीं,कईऐसेअन्यसाफ्टवेयरभीहैंजोव्यक्तिकीसभीगतिविधियोंकाक्लोनतैयारकरलेनेमेंसक्षमहैं।इसकीखासियतहैकिइसकेप्रोग्रामकोकिसीस्मार्टफोनमेंडालदियाजाएतोयहहैकरकाकामकरनेलगताहै।

नतीजतनफोनमेंसंग्रहितसामग्रीआडियो,वीडियो,चित्र,लिखितसामग्री,ईमेलऔरव्यक्तिकेलोकेशनतककीजानकारीपेगाससहासिलकरलेताहै।इसकीविलक्षणतायहभीहैकियहएनक्रिप्टेडसंदेशोंकोभीपढ़नेलायकस्थितिमेंलादेताहै।पेगाससस्पाईवेयरइजराइलकीसíवलांसफर्मएनएसओनेतैयारकियाहै।पेगाससनामकायहएकप्रकारकावायरसइतनाखतरनाकवशाक्तिशालीहैकिलक्षितव्यक्तिकेमोबाइलमेंमिस्डकालकेजरियेप्रवेशकरजाताहै।इसकेबादयहमोबाइलमेंमौजूदसभीडिवाइसोंकोएकतोसीजकरसकताहै,दूसरेजिनहाथोंकेनियंत्रणमेंयहवायरसहै,उनकेमोबाइलस्क्रीनपरलक्षितव्यक्तिकीसभीजानकरियांक्रमवारहस्तांरितहोनेलगतीहैं।लक्षितव्यक्तिकीकोईभीजानकारीसुरक्षितवगोपनीयनहींरहजाती।

वैसेपेगाससयाइसजैसेसाफ्टवेयरपहलीबारचर्चामेंनहींहैं।इजरायलीप्रौद्योगिकीसेवाट्सएपमेंसेंधलगाकरकरीब1,400भारतीयसामाजिककार्यकताओंवपत्रकारोंकीबातचीतकेडाटाहैककरजासूसीकामामलाभी2019मेंआमचुनावकेठीकपहलेसामनेआयाथा।शायदयहआमचुनावकेठीकपहलेमोदीसरकारकीछविखराबकरनेकीदृष्टिसेसामनेलायागयाथा।उससमयवाट्सएपनेकहाथाकि1,400मोबाइलफोनमेंस्पाइवेयरपेगाससडालकरउपभोक्ताओंकीमहत्वपूर्णजानकारीचुराईगईहैं।यहजानकारीतबचुराईगईथी,जबभारतमें2019मेंलोकसभाकेचुनावचलरहेथे।इसपरिप्रेक्ष्यमेंविपक्षनेयहआशंकाजताईथीकिइसस्पाइवेयरकेजरियेविपक्षीनेताओंऔरकेंद्रसरकारकेखिलाफसंघर्षरतलोगोंकीअपराधियोंकीतरहजासूसीकराईगई।हालांकिइसमामलेमेंभीअबतककोईतथ्यपूर्णसच्चाईसामनेनहींआईहै।

वैसेआइटीकानूनकेतहतभारतमेंकार्यरतकोईभीवेबसाइटयासाइबरकंपनीयदिव्यक्तिविशेषयासंस्थाकीकोईगोपनीयजानकारीजुटानाचाहतीहैतोकेंद्रवराज्यसरकारसेलिखितअनुमतिलेनाआवश्यकहै।निजतागोपनीयबनीरहे,लिहाजाऐसेमामलेसामनेआनेपरसरकारभीइससुरक्षाकेप्रति,प्रतिबद्धताजतातीरहीहै।वैसेसरकारोंद्वाराअपनेविरोधियोंकेमोबाइलफोनटेपकरनेकेमामलेयदा-कदासामनेआतेहीरहतेहैं।जोकांग्रेसपेगाससजासूसीकांडपरहंगामाबरपाएहुएहै,उसीकांग्रेसकीवर्ष2011मेंमनमोहनसिंहसरकारमेंतत्कालीनदूरसंचारमंत्रीएराजाऔरराजनीतिकलाबिस्टनीराराडियाकीबातचीतकाटेपलीकहुआथा।कांग्रेसनेतृत्ववालीयूपीएसरकारपरयहबड़ासंकटथा।बादमेंयहभीपर्दाफाशहुआकियूपीएसरकारऔरकईमोबाइलफोनटेपकरारहीथी।

हालांकिभारतमें10ऐसीसरकारीगुप्तचरजांचएजेंसियांहैं,जोआधिकारिकरूपसेसंदिग्धव्यक्तिअथवासंस्थाकीजांचकरसकतीहैं।भारतमेंसंचारउपकरणसेजुड़ापहलाबड़ामामलापूर्वराष्ट्रपतिज्ञानीजेलसिंहकीजासूसीसेजुड़ाहै।उसफोनटैपिंगकेसमयराजीवगांधीप्रधानमंत्रीथे।राष्ट्रपतिकेपत्रोंकीजांचकरनेकाआरोपराजीवगांधीसरकारपरलगाथा।इसीतरहपूर्ववित्तमंत्रीप्रणवमुखर्जीकेदफ्तरमेंभीजासूसीयंत्र‘बग’मिलनेकीघटनासामनेआईथी।उससमयडॉ.मनमोहनसिंहप्रधानमंत्रीथे।इसतरहकेरहस्योंकापर्दाफाशहोनेसेइलेक्ट्रानिकप्रौद्योगिकीकेप्रयोगकोलेकरलोगोंकेमनमेंसंदेहस्वाभाविकहै।लिहाजासरकारकोअपनीजवाबदेहीस्पष्टकरनेकीजरूरतहै।लेकिनहंगामेकेबीचसफाईकैसेदीजाए?शोरथमेतबतोसरकारकास्पष्टीकरणसामनेआए?लिहाजासंसदमेंशोरथमनाचाहिए।

[वरिष्ठपत्रकार]