पौने दो लाख छात्राओं का आवेदन, पर फिजिकल स्टैंडर्ड तय नहीं

14नवंबरकोहोनेवालीएनडीए/एनए2परीक्षामेंअबएकसप्ताहबचाहै।लेकिनयूपीएससीनेअबतकलड़कियोंकेलिएफिजिकलमापदंडोंकीसूचनाजारीनहींकीहै।बतादेंइससाललगभगपौनेछहलाखकैंडिडेट्सनेएनडीए/एनए2एग्जामकेलिएआवेदनकियाहै।इनमेंसेपौनेदोलाखलड़कियांहैं।

लड़कियोंकोएनडीएमेंप्रवेशदेनेकेसुप्रीमकोर्टकेफैसलेकेबाद24सितंबरकोयूपीएससीनेसंशोधितनोटिफिकेशनजारीकियाथाजिसमेंलिखाथाकिलड़कियोंकेलिएशैक्षणिकपात्रताजूनमेंजारीपुरानेनोटिफिकेशनकेअनुसाररहेगीलेकिनशारीरिकमापदंडवैकेंसीकीसंख्यागृहमंत्रालयकीअनुमतिकेबादवाजिबसमयपरबताईजाएगी।

हालांकिअबतकक्राइटेरियाजारीनहींकियागया।दरअसलएनडीएमेंप्रवेशकेलिएशैक्षणिकयोग्यताकेसाथलंबाई,वजनआदिमापदंडोंकेआधारपरफॉर्मभरनेकीपात्रतातयहोतीहै।वहींएसएसबीपासकरनेकेबादमेडिकलएग्जामकेलिएमापदंडअलगहोतेहैं।फिलहालदोनोंपरस्पष्टतानहींहै।

विशेषज्ञोंकेमुताबिकडिफेंससर्विसेसकोपताथाकिएनडीएमेंजल्दहीवुमनकैडेट्सकोप्रवेशदियाजाएगा,क्योंकिसैनिकस्कूलपहलेहीलड़कियोंकोप्रवेशदेरहेहैं।कर्नलदेवआनंदलोहामरोड़(रि.)बतातेहैं,रक्षासेवाओंमेंमहिलाओंकेलिएफिजिकलस्टैंडर्डनिर्धारितहैं।ओटीएमेंलड़कियांसालोंसेजाहीरहीहैं।नएमापदंडोंमेंअधिकबदलावनहींहोगा।हां,इंफ्रास्ट्रक्चरतैयारकरनेमेंसमयलगेगा।

पीसीएमस्ट्रीमवालोंकोमिलसकताहैफायदा

कर्नलअशोकनके(रिटायर्ड)कहतेहैंकिहोसकताहैनवंबरमेंपरीक्षाकेबादमापदंडजारीहों।ओटीएकेपैमानेहीइसमेंलिएजाएंगे।जिसतरहलड़कोंके12वींवग्रेजुएशनकेमापदंडसमानहैं,वैसेलड़कियोंकेभीसमानहोनेकीसंभावनाहै।

पीसीएमस्ट्रीमकीअभ्यर्थियोंकोलाभमिलसकताहैक्योंकिइनविषयोंकासिलेबसकाफीमजबूतहोताहै।इसबारकटऑफभीज्यादारहेगी।सामान्यतौरपरकटऑफ45-50%केबीचहोतीहै।लेकिनइसबारऐसानहींहोसकता।कटऑफइसपरनिर्भरकरेगीकिकितनीलड़कियोंकोचुनाजानाहै।