पैसा मिलता स्कूल तक का, किताबें पहुंचाई जा रहीं एनपीआरसी

जागरणसंवाददाता,फर्रुखाबाद:शासनकेआदेशकेबावजूदस्कूलोंतककिताबेंनहींपहुंचरहीहैं।मजबूरीमेंशिक्षकएनपीआरसीकार्यालयसेकिताबेंस्कूलतकलेजारहेहैं।जबकिठेकेदारविभागीयलोगोंसेमिलीभगतकरस्कूलोंतककिताबेंपहुंचानेकाबिललगाकरपैसोंकाभुगतानकरालेतेहैं।

जिलेके1855विद्यालयोंमेंपंजीकृत1.85लाखबच्चोंकेलिएवर्ष2020-21मेंलगभग16लाखकिताबोंकाठेकादियागयाहै।अबतककरीबनौलाखकिताबेंजिलेकोप्राप्तहोचुकीहैं।किताबोंकोनरेंद्रसरीनमांटेसरीस्कूलफतेहगढ़केकक्षाकक्षोंमेंरखवायागयाहै।शासनकेआदेशहैंकियहांसेकिताबोंकोप्रत्येकब्लॉकमेंस्थितविद्यालयोंतकभिजवायाजाए।इसकेलिएठेकाभीदेदियागयाहै,लेकिनकिताबेंस्कूलतकनहींपहुंचरहीहैं।शिक्षकएनपीआरसीसेहीकिताबेंउठानेआरहेहैं।बढ़पुरब्लॉककेशिक्षकोंनेनामनछापनेकीशर्तपरबतायाकितीन-चारदिनपहलेहीवहएनपीआरसीचांदपुरसेकिताबेंलेकरआए।कक्षासातवआठकीहीकिताबेंअभीमिलीहैं।वहबोलेवैसेतोस्कूलतककिताबेंपहुंचानेकाआदेशहै,लेकिनकभीनहींपहुंचाईजातीं।शिक्षकअगरकुछकहतेहैंतोकार्रवाईहोजातीहै।बतातेहैंकिकिताबेंढुलवानेकेनामपरठेकेदारमनमानीकररहेहैं।किताबेंएनपीआरसीतकपहुंचरहीहैंऔरबिलस्कूलतककेबनवाएजारहेहैं।इसबताकीजानकारीनहींहैकिकिताबेंस्कूलतकनहींपहुंचरहीहैं।अगरऐसाहैतोमामलेकोदिखवाएंगे।स्कूलतककिताबेंनहींपहुंचरहींहैंतोठेकेदारकोभुगताननहींकियाजाएगा।

-लालजीयादव,बीएसए