पैडमैन नहीं जनाब यहां पैडवूमेन कहिए

डीपीआर्य,सोनीपत

वर्ष2018मेंआईअक्षयकुमारकीफिल्मपैडमैननेमहिलाओंकोऐसेविषयपरबोलनेकासाहसदिया,जिसकास्थानशर्मऔरचुप्पीनेलेरखाथा।फिल्मसेप्रेरितहोकरसामाजिकसंगठनस्प्रेडस्माइलफाउंडेशननेमीनूअग्रवालकीअगुवाईमेंसेनेटरीपैडबांटनेकाअभियानशुरूकिया।इसअभियानकोदोसालपहलेआओबहनचुप्पीतोड़ेंकेनारेकेसाथशुरूकियाथा।संस्थाकीपांचमहिलाओंनेइसअभियानकोशुरूकियाथा,अबइसमें57महिलाएंशामिलहैं।अबयहसंस्थाकेवलसेनेटरीपैडबांटनेतकहीसीमितनहींहै,यहमाहवारीस्वच्छताकाजागरूकताअभियानबनगयाहै।

केवलसामान्यपरिवारोंमेंहीनहीं,अपितुशिक्षितवउच्चघरानोंकीमहिलाएंभीमाहवारीस्वच्छतापरबातकरनेसेसंकोचकरतीहैं।संगठनकीपदाधिकारीबतातीहैंकिमाहवारीस्वच्छताकाध्याननरखनेऔरसेनेटरीपैडकीबजायकपड़ेकाप्रयोगकरलेनेसेकईगंभीरबीमारियांहोजातीहैं।उसकेबावजूदमहिलाऔरपुरुषइसकोगंभीरतासेलेनेकोतैयारनहींहैं।यहसोचकरसंस्थानेइसकोजनांदोलनबनानेकानिर्णयलिया।संस्थाकीपदाधिकारीनेबतायाकिफिल्मपैडमैनसेउन्हेंसाहसमिलाऔरआखिरकारअभियानशुरूकरदिया।महिलाओंकोफोनपरदीजातीहैजरूरीसलाह

स्प्रेडस्माइलफाउंडेशनकेबैनरकेसाथआओबहनचुप्पीतोड़ेंअभियानशुरूकियागया।संगठनकीओरसेसेक्टर12,14,15,23औरऔद्योगिकक्षेत्रोंकीश्रमिकबस्तियोंमेंझुग्गीमेंरहनेवालीमहिलाओंवयुवतियोंकोसेनेटरीपैडदियाजारहाहै।इसकेसाथहीमहिलाओंकोसाबुनऔरडेटॉललोशनबांटाजाताहै।इसकेअलावामहिलाओंकीजानकारीकेलिएस्वास्थ्यकैंपोंकाआयोजनकियाजाताहै।महिलाओंकोहरमहीनेसेनेटरीपैडदिएजातेहैं।इसकेअलावावहसंस्थाकीमहिलापदाधिकारियोंकोफोनकरकेजरूरीसलाहलेसकतीहैं।पांचमहीनोंमेंपांचहजारपैडबांटे

झुग्गियोंमेंरहनेवालीजोमहिलाएंसेनेटरीपैडलेनेसेशर्मारहीथीं,उन्हेंसंगठननेआवाजदीहै।अबवहखुलकरबातकरनेलगीहैं।इसकाअभियानकासंचालनमीनूअग्रवालकररहीहैं।वूमेनटीमकीसदस्यप्राची,वंदना,युक्ति,आरतीवतान्यालगातारझुग्गियोंऔरश्रमिकबस्तियोंमेंजातीहैं।इससालपांचमहीनोंकेदौरानयेमहिलाएंपांचहजारसेअधिकसेनेटरीपैडबांटचुकीहैं।महिलाओंकोमाहवारीसंक्रमणकेकारणकईप्रकारकेगंभीररोगहोजातेहैं।दुखकाविषययहहैकिज्यादातरमहिलाएंअपनीइसबीमारीकोगंभीरतासेनहींलेतीहैं।वहइसपरचर्चाभीनहींकरतीहैं।हमाराकामपैडऔरदवाईबांटनेसेज्यादासंकोचवशर्मखत्मकराकरमहिलाओंकोआवाजदेनाहै,जिससेवहखुदपहलकरजागरूकहोसकें।

-मीनूअग्रवाल,प्रवक्ता,जीवीएमग‌र्ल्सकॉलेजवआओबहनचुप्पीतोड़ेंअभियानकीसंचालक