नवरात्र में बन रहे हैं छह सिद्ध योग, पहली बार नौ दिनों में इन योगों का मिलेगा लाभ Aligarh news

अलीगढ़[जेएनएन]:चैत्रमासकी नवरात्रकाशुभारंभ25मार्चसेहोगा।इसबारनौदिनोंमेंछहसिद्धयोगबनबनरहेहैं।चारसर्वार्थसिद्धियोग,एकअमृतसिद्धिएवंएकरवियोगबनेगा।वैदिकज्योतिषसंस्थानकेप्रमुखस्वामीपूर्णानंदपुरीमहाराजनेकहाकिनवरात्रमेंछहसिद्धयोगउत्तमहैं,जोशुभसाबितहोंगे।उन्होंनेबतायाकिसालमेंकुलचारनवरात्रपड़तेहैं।दोसामान्यऔरदोगुप्तनवरात्रि।चैत्रऔरआश्विननवरात्रहोतेहैं।आषाढ़औरमाघमेंगुप्तनवरात्रहोतेहैं।इसमेंविशेषकरतांत्रिकसिद्धियोंकोप्राप्तकरनेकेलिएविशेषउपासनाकरतेहैं।गृहस्थचैत्रऔरशारदीयनवरात्रमेंव्रतरखतेहैं।

मांकाआशीर्वादम‍िलताहै

पूर्णानंदपुरीनेकहाकिनवरात्रमेंनौदिनतकमांकीकृपाबरसतीहै।मांशैलपुत्रीचंद्रमाकोदर्शातीहैं।इनकीपूजासेचंद्रमासेसंबंधितदोषसमाप्तहोजातेहैं।ब्रह्मचारिणीमंगलग्रहकोनियंत्रितकरतीहैं।चंद्रघंटाशुक्रग्रहकोनियंत्रितकरतीहैं।कूष्माण्डासूर्यकामार्गदर्शनकरतीहैं।इनकीपूजासेसूर्यकेकुप्रभावसेबचाजासकताहै।स्कंदमाताबुधग्रहकोनियंत्रितकरतीहैं।कात्यायनीबृहस्पतिग्रहको,कालरात्रिशनिग्रहको,महागौरीराहुग्रहऔरसिद्धिदात्रीकेतुग्रहकोनियंत्रितकरतीहैं।देवीपूजासेकेतुकेबुरेप्रभावकमहोतेहैं।

घटस्थापनाकासमय

आचार्यनेकहाकियूंतोनवरात्रमेंकिसीभीसमयघटस्थापनाकरसकतेहैं।मगर,पंचांगकेअनुसार25मार्चकोसुबह6.19बजेसेसुबह7.17 बजेघटस्थापनाकरसकतेहैं।कलशस्थापनाकेसमयपूजागृहमेंपूर्वकेकोणकीतरफ याआंगनसेपूर्वोत्तरभागमेंपृथ्वीपरसातप्रकारकेअनाजरखें।इसकेउपरांतकलशमेंजल,गंगाजल,लौंग,इलायची,पान,सुपारी,रोली,मोली,चंदन,अक्षत,हल्दी,रुपयेआदिडालें।लालरंगकीचुनरीकलशकोओढ़ादें।