नन्हें रोजेदार भी अकीदत के साथ रख रहे हैं रोजे

संवादसूत्र,फलका(कटिहार):माह-ए-रमजानकेमहीनेमेंबड़ोंकेसाथ-साथछोटे-छोटेमासूमबच्चेभीरोजारखनेमेंपीछेनहींहटरहेहैं।नन्हे़ंरोजेदारभूखेप्यासेरहकरअल्लाहकीइबादतकररहेहैं।बड़ोंकेसाथमासूमबच्चेभीरोजारखनेकेसाथपांचोवक्तकीनमाजऔरकुरान-ए-पाककीतिलावतकररहेहैं।फलकाप्रखंडक्षेत्रकेकईऐसेबच्चेहैंजोपहलीबाररोजारखनियमकाभीपालनकररहेहैं।इनकेअभिभावककहतेहैंकिरहमतऔरबरकतकामहीनामाह-ए-रमजानघरकेलोगोंमेंइबादतकेलिएजुनूनपैदाकरताहै।इसलिएछोटे-छोटेमासूमबच्चेभीबढ़-चढ़करहिस्सालेतेहैं।

मुफ्तीरिजवानअहमदनेबतायाकि15सालयाउससेऊपरकेबच्चेऔरबच्चियोंपररोजाफर्ज(जरुरी)है।यदिकमउम्रकेबच्चेरोजारखतेहैं,तोउन्हेंअल्लाहकीनजदीकीजल्दमिलतीहै।बच्चोंकेरोजारखनेकासवाब(पुण्य)उनकेमाता-पिताकोभीमिलताहैं।इसउम्रमेंहीउनमेंअल्लाहकेप्रतिविश्वासउनकेभविष्यकेलिएबेहतरहै।नन्हेंरोजेदारोंनेकहाकिरोजेदारोंकेलिएरमजानकामहीनाकाफीअहमहोताहै।हमइसमहीनेकाबेसब्रीसेइंतजारकररहेथे।हमलोगरोजारखअल्लाहपाककीइबादतकरअपनेवअपनेपरिवारकेसाथ-साथमुल्ककीतरक्कीऔरमुल्कमेंअमनकीदुआकररहेहैं।नन्हेंरोजेदारमें13वर्षीयमेहरफातिमा,11वर्षीयसालिमारिजवान,नौवर्षीयमोहम्मद,आठवर्षीयसोफियाशमशाद,छहवर्षीयमेबिशबहार,12वर्षीयरोजीप्रवीण,नौवर्षीयशबनमखातून,आठवर्षीयआकिबआलम,10वर्षीयअनस,12वर्षीयजीशानआदिशामिलहैं।