नीलगाय, घोड़परास व जंगली सुअर के आतंक से किसान खेती छोड़ने का हो रहे विवश

संवादसूत्र,लालगंज:

प्रखंडक्षेत्रकेदर्जनोंगांवकेकिसाननीलगाय,घोड़परासऔरजंगलीसुअरकीसमस्यासेसेपरेशानहैं।हजारोंकीसंख्यामेंफैलेअवाराजानवरफसलोंकीबड़ेपैमानेपरक्षतिपहुंचारहेहै।यहांपुरनटांड,गुरमियां,भटौलीभगवान,करताहांबुजुर्ग,पंचदमिया,पुरखौली,टोटहां,खरौनाआदिदर्जनोंगांवइससमस्यासेबुरीतरहप्रभावितहैं।फुलगोभीबीजकेउत्पादककिसानोंकोभारीक्षतिउठानीपड़रहीहै।

गेहूं,मक्कासहितअन्यफल-सब्जीकीखेतीभीनीलगायोंकाझुंडचटकरजारहीहै।जिनफसलोंकोवहखानहींसकतेउसेरौंदकरबर्बादकरदेतेहैं।तंबाकूऔरराई-सरसोंकेपौधेइनसेज्यादाप्रभावितहोतेहैं।इससेतंबाकूउत्पादककिसानोंकोआर्थिकक्षतिउठानीपड़रहीहै।वहींसब्जीकीखेतीमेंबैगन,आलू,गोभी,टमाटर,केला,पपीताआदिफसलोंकीभीबड़ेपैमानेपरनीलगायबर्बादकररहेहैं।

किसानोंकाकहनाहैकिनीलगायसहितअन्यअवाराजानवरोंकीसंख्याइतनीबढ़गईहैकिवहझुंडबनाकरखेतोंमेंघुसकरफसलोंकोबर्बादकररहेहैं।पहलेतोवहसुनसानजगहोंवालेखेतोंमेंपहुंचतेथे,लेकिनअबवहघनीआबादीवालेक्षेत्रोंमेंभीनिडरहोकरफसलोंकोनुकसानपहुंचानेलगेहैं।

क्याकहतेहैंकिसान:फोटो-11

किसानोंकेहितमेंनीलगायोंकोपकड़वाकरकिसीअन्यनिर्जनस्थानयाजंगलोंमेंछुड़वादेनाचाहिएताकिकिसानोंकोराहतमिलसके।जिलाप्रशासनएवंराज्यसरकारदससालपूर्वसेकिसानोंकोपहुंचाईगईफसलक्षतिकामुआवजाकीव्यवस्थाकरेताकिकरोनाकालमेंआर्थिकदंशझेलरहेकिसानोंकीपरेशानियोंकाकुछहदतकहलहोसके।

-गीतादेवी,जिलापार्षद,लालगंज।

किसानमहंगेदरपरखादबीजएवंकीटनाशकोंकीखरीदारीकरखेतीकरतेहैं।जिन्हेंनीलगाय,घोड़परास,जंगलीसुअरआदिक्षतिपहुंचारहेहैं।इससेउन्हेंकाफीआर्थिकतंगीझेलनापड़रहाहैं।इनकेक्षतिकाआकलनकरसरकारकोमुआवजादेनाजानाचाहिएताकिवहअगलीफसलपूरीउत्साहसेलगासकें।साथहीइनकेआतंककोसमाप्तकरानाजरुरीहै।

-राजीवकुमार,पैक्सअध्यक्षपुरखौली।

सरकारकोचाहिएकिनीलगायऔरघोड़परासकोपकड़वाकरट्रकोंकेमाध्यमपासकेकिसीजंगलमेंछोड़नेकीव्यवस्थाकरे।ताकिकिसानोंकोउनकेफसलक्षतिकाभयसमाप्तहोजाएऔरवहनिर्भयहोकरसेखेतीकरसकें।नीलगायऔरघोड़परासकेआतंकसेयहांकेकिसानखेतीकरनाछोड़रहेहैं।उनकीलगी-लगाईपूंजीलगातारबर्बादहोतेजारहेहैं।

-उदयकुमारयादव,

प्रखंडउपाध्यक्ष,राजद।